श्रीनगर की जामिया मस्जिद में कुछ नकाबपोश तत्वों ने घुसकर आइएस के झंडे लहराए और तोड़फोड़ की। नकाबपोश तत्वों का आइएस के झंडे फहराने का वीडियो भी वायरल हुआ है। उन्होंने ने आइएस के समर्थन में नारेबाजी भी की। इस मस्जिद में हुर्रियत के उदारवादी गुट के चेयरमैन मीरवाइज उमर फारूक नमाज पढ़ाने के लिए भी जाते हैं।
गत शुक्रवार को जुमे की नमाज अदा करने के बाद जब नमाजी वापस घरों को चले गए तो उस समय मस्जिद खाली थी। इसी बीच कुछ नकाबपोश तत्व मस्जिद में घुस गए और आइएस के झंडे लहराते हुए नारे लगाने लगे। नकाबपोश तत्व उस जगह पर भी बैठ गए जहां पर मौलवी नमाज पढ़ाते हैं। वहीं, नकाबपोश तत्वों ने तोड़फोड़ भी की।
हालांकि, कश्मीर के विभिन्न इलाकों में आइएस और पाकिस्तान के झंडे पहले भी लहराए जाते रहे हैं। अधिकतर बार शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद नकाबपोश लड़के झंडे लहराते हैं, लेकिन इस बार आइएस के झंडे कश्मीर के मशहूर जामिया मस्जिद के अंदर लहराए गए हैं। मस्जिद के प्रबंधक और पुलिस के पहुंचने से पहले ही नकाबपोश तत्व फरार हो गए।
वहीं, जामिया मस्जिद का संचालन करने वाली अंजुमन अकाफ ने मस्जिद में जबदस्ती घुस कर आईएस के झंडे लहराने की घटना की कड़ी निंदा की है। उन्होंने कहा कि यह एक सोची समझी साजिश का हिस्सा है। इससे लोगों में रोष है और लोगों की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंची है। वहीं, मीरवाइज उमर फारूक ने भी घटना की कड़े शब्दों में ¨नदा करते हुए कहा कि इन तत्वों ने न सिर्फ इस्लाम का अपमान किया है बल्कि लोगों की धार्मिक भावनाओं के साथ खिलवाड़ भी किया है।