Home Blog

पकड़ा गया मोहम्मद शाहरुख खान, अम्मी अब्बा के पीछे छुप कर बैठा था अपराधी

गोलियाँ चलाने वाला मुसलमान युवक मोहम्मद शाहरुख खान गिरफ्तासर हो गया।
नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध के नाम पर दिल्ली में भारी उपद्रव किया जा रहा है। उपद्रवी बड़ी बेरहमी के साथ आम लोगों को नुकसान पहुंचा रहे हैं। लोगों के घरों पर पत्थर फेंके गए, आग लगाई गई। यहां तक कि पेट्रोल पंप को भी आग के हवाले कर दिया गया। विरोध के नाम पर ये लोग इतने आक्रोशित हो गए हैं कि इन्हें किसी की जान लेने में भी गुरेज नहीं हो रहा है। उपद्रवियों की ओर से की गई फायरिंग में हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल की जान चली गई। हिंसा में एक और शख्स की भी जान चली गई है। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि आखिर विरोध प्रदर्शन के नाम पर उपद्रवियों की हिंसा को जायज कैसे ठहराया जा सकता है।

सीएए का विरोध कर रहे लोगों का कहना है कि वे भारतीय हैं। उनका आरोप है कि सीएए कानून के जरिए उनकी नागरिकता छिनने की तैयारी है। जबकि भारत सरकार सौ दफे कह चुकी है कि सीएए नागरिकता छिनने नहीं देने का कानून है। उपद्रवियों के बीच भ्रम है कि देशभर में एनआरसी लाया जाएगा। जबकि खुद प्रधानमंत्री और गृह मंत्री अमित शाह साफ कर चुके हैं कि फिलहाल एनआरसी की कोई बात नहीं हुई है। इसको लेकर कैबिनेट की कोई बैठक तक नहीं हुई है।
इन सारी बातों के बीच सबसे बड़ा सवाल यह है कि उपद्रव की भेंट चढ़े कॉन्स्टेबल रतन लाल की मौत का जिम्मेदार कौन है। आखिर वह तो भारत के नागरिक थे। वह तो अपनी सेवा दे रहे थे। ऐसे में भला तथाकथित तौर पर अपनी नागरिकता बचाने की लड़ाई लड़ने वालों ने कैसे उनकी जान ले ली।
विरोध के नाम पर हत्या की इजाजत किसने दी?
हमारा संविधान सरकार के द्वारा बनाए गए किसी भी कानून या फैसले के प्रति विरोध जताने का अधिकार देता है। लेकिन विरोध के नाम पर किसी को नुकसान पहुंचाने की इजाजत कतई नहीं है। इस देश को स्वतंत्रता दिलाने वाले महात्मा गांधी पूरे स्वतंत्रता संग्राम के दौरान हिंसा को हमेशा रोकने की कोशिश करते रहे। वे किसी भी सूरत में हिंसा का समर्थन करने को तैयार नहीं थे।
हिंसक प्रदर्शन में हेड कॉन्स्टेबल की मौत, डीसीपी घायल
राजधानी दिल्ली में सीएए और एनआरसी को लेकर भारी बवाल देखने को मिल रहा है। खास तौर से यमुनापार में जबरदस्त हिंसा की खबर है। इस बीच गोकुलपुरी इलाके में भारी उपद्रव के बीच एक हेड कॉन्स्टेबल की मौत हो गई है। दिल्ली पुलिस के एक डीसीपी घायल भी हुए हैं।
भजनपुरा में प्रदर्शनकारियों ने पेट्रोल पंप को किया आग के हवाले
भजनपुरा इलाके में सीएए के विरोध में प्रदर्शनकारियों ने एक पेट्रोल पंप को आग के हवाले कर दिया और कई गाड़ियों में आगजनी की है। चांदबाग से भी पत्थरबाजी और फायरिंक की खबर आ रही है। इस बीच उत्तर पूर्वी दिल्ली के कम से कम 10 जगहों पर हिंसा के देखते हुए धारा 144 लगाई गई।
मौजपुर में दो गुटों के बीच हुई भिड़ंत
दिल्ली के मौजपुर इलाके में दो गुटों के बीच भिड़ंत हुई है। उत्तर पूर्व दिल्ली के डीसीपी वेद प्रकाश सूर्य ने बताया कि हमने दोनों पक्षों के लोगों से बात की है, फिलहाल स्थिति शांतिपूर्ण है। हम लगातार लोगों से बात कर रहे हैं।
जाफराबाद में पुलिस के सामने 8 राउंड फायरिंग
दिल्ली के जाफराबाद में पुलिस के सामने 8 राउंड गोलियां चलाई गई हैं। भजनपुरा आगजनी में तीन-चार बाइक्स फूंक दी गई हैं। भजनपुरा थाने के आसपास भी हिंसा की खबर है। करावल नगर में हिंसा के वक्त तैनात अडिशनल डीसीपी समेत कई पुलिसकर्मी जख्मी हो गए हैं।
दिल्ली ने लोगों से की शांति बनाए रखने की अपील
दिल्ली में हिंसा पर पुलिस ने बताया कि मौजपुर, करदमपुरी, चांद बाग और दयालपुर इलाके में हिंसा हुई है। पुलिस ने उत्तर पूर्वी दिल्ली समेत दिल्ली के सभी इलाके में लोगों से शांति बरतने की अपील की है। लोगों को अफवाहों से बचने की सलाह दी गई है। पुलिस ने उपद्रवियों को कड़ी कार्रवाई की भी चेतावनी दी है।

BREAKING NEWS 【7 VIDEO LIVE】दिल्ली में पुलिस हत्या

हेड कॉन्स्टेबल की गोली मारकर हत्या, डीसीपी घायल
समुदाय विशेष के बहुतायत वाले समूहों ने आगजनी और गोलीबारी की है जिसमे एक हैड कांस्टेबल की मौत हो गयी साथ 11 पुलिसकर्मियों को चोट आई है।
नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध के नाम पर देश की राजधानी दिल्ली में जगह-जगह हो रहे प्रदर्शनों के बीच भड़की हिंसा में आज दिल्ली पुलिस के एक हेड कॉन्स्टेबल की गोली मारकर हत्या कर दी गई। वहीं उपद्रवियों के हमले में एक डीसीपी भी घायल हो गए हैं। इसके अलावा प्रदर्शनकारियों की ओर की जा रही पत्थरबाजी में कई पुलिसकर्मी भी घायल हुए हैं। गोकुलपुरी इलाके में प्रदर्शनकारियों की तरफ से की गई फायरिंग में हेड कॉन्स्टेबल की जान चली गई। घायल हुए डीसीपी का नाम अमित शर्मा हैं, जिनकी पोस्टिंग शाहदरा में है।
बताया जा रहा है कि विरोधियों की ओर से की गई फायरिंग में रतन लाल नाम के हेड कॉन्स्टेबल की मौत हो गई। हेड कॉन्स्टेबल रतन लाल सहायक पुलिस आयुक्त के कार्यालय से जुड़े हुए थे। जाफराबाद इलाके में भारी संख्या में प्रदर्शनकारी अब भी जमा हैं। प्रदर्शनकारियों ने मौजपुर में दो घरों को आग के हवाले कर दिया है। विरोध के नाम पर सरेआम गुंडागर्दी जारी है।
केजरीवाल बोले, कृपया हिंसा त्याग दीजिए
हेड कॉन्स्टेबल की मौत पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि पुलिस हेड कॉन्स्टेबल की मौत बेहद दुखदायी है। वह भी हम सबमें से एक थे। कृपया हिंसा त्याग दीजिए। इससे किसी का फायदा नहीं। शांति से ही सभी समस्याओं का हल निकलेगा।
लोगों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे हैं। जाफराबाद में तनावपूर्ण हालात बने हुए हैं। यहां एक शख्स बीच रोड पर फायरिंग करते हुए देखा गया। उपद्रवियों ने यहां एक पेट्रोल पंप को भी आग के हवाले कर दिया। पिछले कुछ घंटों से इलाके का माहौल काफी खराब हो गया है।
घटनास्थल पर पैरा मिलिट्री रवाना
बताया जा रहा है कि इलाके में अभी पर्याप्त संख्या में पुलिस बल नहीं हैं, लेकिन सूचना मिल रही है कि कुछ ही समय में यहां पैरा मिलिट्री फोर्स की कंपनी पहुंचने वाली है। उपद्रवी बेखौफ दिख रहे हैं। वे पुलिस पर शराब की बोतलों से हमला कर रहे हैं। इसके अलावा लगातार फायरिंग भी की जा रही है। पुलिस लगातार माइक के जरिए उनसे शांति बनाए रखने की अपील कर रही है, जिसका कोई असर होता नहीं दिख रहा है।
सीएम केजरीवाल ने केंद्र सरकार से मांगी मदद
दिल्ली में हालात बिगड़ता देख मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने केंद्र सरकार से मदद की गुहार लगाई है। सीएम केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा, ‘ दिल्ली के कुछ हिस्सों में शांति और सद्भाव में गड़बड़ी की सूचना परेशान करने वाली है। मैं उपराज्यपाल और केंद्रीय गृह मंत्री से कानून और व्यवस्था को बहाल करने का आग्रह करता हूं। साथ ही किसी को भी माहौल खराब करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है।’
Arvind Kejriwal
✔@ArvindKejriwal
Very distressing news regarding disturbance of peace and harmony in parts of Delhi coming in.
I sincerely urge Hon’ble LG n Hon’ble Union Home Minister to restore law and order n ensure that peace and harmony is maintained. Nobody should be allowed to orchestrate flagrations.
12K
3:21 PM – Feb 24, 2020
Twitter Ads info and privacy
4,657 people are talking about this
वहीं, उपराज्यपाल अनिल बैजल ने दिल्ली पुलिस आयुक्त को कानून व्यवस्था बनाए रखने का निर्देश दिया है।
दो मेट्रो स्टेशन किए गए बंद
इससे पहले उत्तर-पूर्वी दिल्ली के मौजपुर इलाके में सोमवार को प्रदर्शनकारियों ने एक-दूसरे पर पथराव किया, जिसके बाद पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए फ्लैग मार्च किया। लोगों का कहना है कि प्रदर्शनकारियों द्वारा श्मशान की तरफ से पथराव किया गया है। इस बीच दिल्ली मेट्रो ने मौजपुर-बाबरपुर मेट्रो स्टेशन के प्रवेश और निकास द्वार को बंद करने की घोषणा की है।
आपको बता दें कि सीएए के समर्थक और विरोधी गुटों के बीच रविवार को भी पत्थरबाजी हुई थी। सीएए समर्थक समूहों ने मौजपुर-बाबरपुर मेट्रो स्टेशन और मौजपुर चौक पर रैली की थी, जबकि सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों ने कबीर नगर और जाफराबाद क्षेत्र में अपना विरोध जताया था।
हालात तनावपूर्ण: दिल्ली पुलिस
पूर्वी रेंज के दिल्ली पुलिस के जॉइंट कमिश्नर आलोक कुमार ने मीडियाकर्मियों से कहा कि आसपास के क्षेत्र में स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है।

नया भारत,चीन को जमकर लताड़ा भारत ने,पाकिस्तान समझने की गलती मत करना

भारत ने चीन में फंसे अपने काफी नागरिकों को निकाल लिया था,फिर भी कुछ 100 के आसपास जिद करके रुक गए थे जिन्होंने मदद की गुहार लगाई,भारत को विमान भेजने देने में चीन ने हील हवाला दिया था जिसपर भारत ने चीन को जमकर लताड़ दिया है।
चीन में कोरोना वायरस की वजह से 109 और लोगों ने दम तोड़ दिया है। इससे मृतकों की संख्या बढ़कर 2,345 हो गई है। वहीं, इस वायरस ने दुनियाभर में अब तक 77 हजार से अधिक लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे कोविड-19 नाम दिया है।
भारत ने कोरोना वायरस से प्रभावित चीन के वुहान से अपने नागरिकों को निकालने में देरी पर सख्त ऐतराज जताया है। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि प्रभावित लोगों के लिए राहत सामग्री पहुंचाने और भारतीयों को वापस लाने के लिए वायुसेना का विमान भेजने के प्रस्ताव को मंजूरी देने में चीन जानबूझ कर देरी कर रहा है। भारत ने विशेष विमान भेजने के लिए 13 फरवरी को चीन से अनुरोध किया था। जापान, यूक्रेन और फ्रांस की उड़ानों को 16 से 20 फरवरी के बीच इजाजत दी गई थी, लेकिन भारत के अनुरोध को अभी तक मंजूरी नहीं मिली है। अधिकारियों ने बताया कि वुहान में फंसे भारतीय वहां से वापसी पर अनिश्चतता के कारण चिंता और मानसिक तनाव का शिकार हो रहे हैं। एक अनुमान के मुताबिक, वुहान में अभी 100 से अधिक भारतीय रह रहे हैं।
उधर, चीन ने इन आरोपों को खारिज किया है। चीनी दूतावास के प्रवक्ता ने सफाई देते हुए कहा, ‘हमने भारतीय नागरिकों के वापस जाने में पूरी मदद मुहैया कराई। हुबेई में महामारी की स्थिति बहुत जटिल हो चुकी है और बचाव और रोकथाम क्रिटिकल स्टेज में है। दोनों ही देशों के विभाग इस संबंध में लगातार बातचीत कर रहे हैं। ऐसा कुछ भी नहीं है कि चीन जानबूझ कर भारतीय विमान को चीन आने की मंजूरी नहीं दे रहा है।’
कोरोना वायरस की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव हो तो भी टेंशन नहीं!
चीन में मृतकों की संख्या 2300 पार, दुनिया भर में 77 हजार से अधिक प्रभावित
चीन में कोरोना वायरस की वजह से 109 और लोगों ने दम तोड़ दिया है। इससे मृतकों की संख्या बढ़कर 2,345 हो गई है। वहीं, इस वायरस ने दुनियाभर में अब तक 77 हजार से अधिक लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इसे कोविड-19 नाम दिया है। चीन में इसके 76,288 मामले सामने आए हैं। वहीं, जापान में 739 मामलों में तीन लोगों की मौत हो चुकी है। दक्षिण कोरिया में 346 मामले सामने आए, जबकि 2 की मौत हो चुकी है। अमेरिका में भी इस वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 35 तक पहुंच गई है।
इटली में दूसरी मौत
इटली में कोरोना वायरस से एक और मौत हो गई। इटली की समाचार एजेंसी एएनएसए के मुताबिक, नए मामले में एक महिला की मौत हुई है। इससे पहले कोरोना वायरस की चपेट में आने से शुक्रवार को 78 वर्षीय एक शख्स की मौत हो गई थी।
ईरान में मृतकों की संख्या पांच हुई
ईरान में कोरोना वायरस के 10 नए मामले सामने आए हैं। स्वास्थ्य विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि इससे एक व्यक्ति की मौत भी हो गई। यहां इस वायरस से मरने वालों की संख्या पांच हो गई। वहीं, प्रभावितों की कुल संख्या 28 हो गई है।
जापानी क्रूज से 100 यात्रियों को निकाला गया
जापान के डायमड प्रिंसेज क्रूज पर कोरोना वायरस के संक्रमितों के संपर्क में रहे करीब 100 व्यक्तियों ने शनिवार को निकाला गया। इस हफ्ते की शुरुआत में करीब 970 यात्रियों ने जहाज छोड़ा था। जहाज पर अभी भी चालक दल के एक हजार से अधिक सदस्य मौजूद हैं। अधिकारियों ने बताया कि इन सभी को 14 दिन के लिए अलग रखने की शुरुआत की जा सकती है

बॉलीवुड का मुसलमान गीतकार लगा हिन्दुओ को आपस मे लड़वाने में, उकसाया सवर्ण हिन्दुओ को मारने के लिए

” नपुंसक समाज वाले जब किसी से लड़ नही पाते तो वह चुपचाप मजबूत समाज मे फूट डालते हैं”
बॉलीवुड गीतकार हुसैन हैदरी अक्सर वामपंथियों को खुश करने के लिए मोदी विरोधी, हिंदू विरोधी यहाँ तक कि देश विरोधी बातें करने से नहीं चूकते। हैदर ने एक बार फिर लोगों को उकसाने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया है। हैदरी ने इस बार मोदी सरकार के साथ हिंदू सवर्णों को अपनी घृणित सोच निशाना बनाया है। इतना ही नहीं हैदरी ने वारिस पठान की भाषा को तो अस्वीकार किया, लेकिन हिंदुओं से शांत रहने की भी अपेक्षा की है।
बॉलीवुड गीतकार हुसैन हैदरी ने ट्विटर पर हिंदुओं के ख़िलाफ जहर उगला और ट्वीट करते हुए लिखा, “सवर्ण हिंदुओं ने पूरे देश को बर्बाद किया है, पर ज्ञान बाँटने में, भाषा के शृंगार सिखाने में, शालीनता का पाठ पढ़ाने में सब एक नंबर हैं। अपनी कॉलोनियों में घर-घर जाओ और चप्पल मार कर बोलो बीजेपी को वोट न करें। हिम्मत दिखाओ, भक्ति नहीं।”
बाद के एक दूसरे ट्वीट में हुसैन हैदरी ने AIMIM नेता वारिस पठान के समर्थन में लिखा, जिसने कर्नाटक के गुलबर्गा में सीएए के खिलाफ आयोजित एक रैली में हिंदुओं के ख़िलाफ ज़हर उगला था। हैदरी ने इस घटना के लिए भी हिंदुओं को ही जिम्मेदार ठहराया।
हैदरी ने ट्वीट किया “सवर्ण हिंदुओं के बार-बार वारिस पठान की आलोचना करने में शर्म आनी चाहिए, जबकि वे जिस पार्टी को सीधे-सीधे या परोक्ष रूप से सत्ता सौंपी थी। वह खुले तौर पर नरसंहार की धमकी देते थे। बाहर सड़कों पर आने और आरएसएस को उखाड़ फेंकने के बजाय, ट्विटर और फेसबुक पर बकोली करवा लो बस इनसे।”
यह बात चौंकाने वाली है कि एक तरफ हैदरी कहते हैं कि वारिस पठान ने जो कहा वह बेहद घृणित और अस्वीकार्य था। इसके बाद भी वह चाहते हैं कि हिंदू प्रतिक्रिया न दें। दरअसल कवि हैदरी यह कहना चाहते हैं कि उनका समुदाय हिंदुओं के खिलाफ जो चाहे वह कह सकता है या कर सकता है, लेकिन हिंदू समुदाय को शांति रखनी चाहिए और सिर्फ मु्स्लिमों की बकवास को सहन करना चाहिए।
चौंकाने वाली बात यह कि यह सब ट्वीट करने के बाद हैदरी का ट्विटर अकाउंट पर लॉक लगा हुआ है।

अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी गिरफ्तार होकर पहुंच गया भारत,15 साल से फरार था

हत्या और जबरन वसूली सहित कई गंभीर अपराधों के आरोपी रवि पुजारी को आज भारत लाया गया। बंगलूरू के केम्पेगौड़ा अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर पहुंचने के बाद पुलिस ने उसे अपने हिरासत में ले लिया है।
15 साल से फरार गैंगस्टर रवि पुजारी दक्षिण अफ्रीका में गिरफ्तार, लाया गया भारत।
दक्षिण अफ्रीका में करीब 25 दिन पहले गिरफ्तार किए गए 15 वर्षों से फरार गैंगस्टर रवि पुजारी को पुलिस अधिकारियों की एक टीम भारत ला रही है। बताया जा रहा है कि रवि पुजारी को कर्नाटक पुलिस और पश्चिमी अफ्रीका के सेनेगल के अधिकारियों ने एक संयुक्त कार्रवाई में वहाँ के एक गाँव से गिरफ्तार किया।
रिपोर्ट्स के अनुसार, पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि वो सेनेगल से रवि पुजारी को अपने साथ भारत ला रहे हैं और वो अभी पेरिस में हैं। अधिकारियों ने कहा कि वो एयर फ़्रांस की उड़ान से आ रहे हैं और आधी रात तक भारत पहुँच जाएँगे।
रवि पुजारी किसी जमाने में छोटा राजन का खास हुआ करता था लेकिन जब राजन के गैंग में फूट पड़ी तो उसने भी अलग रास्ता अपना लिया। अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी की तालाश कर रही अहमदाबाद पुलिस ने पाँच महीने पहले दक्षिण अफ़्रीकी सरकार को पत्र भी लिखा था। दरअसल, पुजारी पर गुजरात के कई व्यापारियों और राजनेताओं ने करोड़ों रुपए की रंगदारी के लिए धमकाने का आरोप लगाया था, जिसके चलते अहमदाबाद पुलिस उसे गुजरात लाना चाहती थी।
रवि पुजारी लगभग 15 साल से भारत से फरार था। उस पर फिरौती, हत्‍या, ब्‍लैकमेल और धोखाधड़ी से जुड़े कई मामले दर्ज थे, जिसमें कई बॉलीवुड की हस्तियों से भी फिरौती माँगने के मामले दर्ज हैं। जिस कारण पुलिस उसकी तलाश कर रही थी। इसके बाद उसे सेनेगल निर्वासित कर दिया गया था, जहाँ से पिछले साल जमानत मिलने के बाद वो फरार हो गया था। हाल ही में सेनेगल की सुप्रीम कोर्ट ने प्रत्यर्पण के खिलाफ पुजारी की अर्जी रद्द कर दी थी। इसके बाद पुजारी के पास कोई कानूनी रास्ता नहीं बचा था।
अंडरवर्ल्ड डॉन रवि पुजारी को जनवरी में अफ्रीकी देश सेनेगल की राजधानी डकार के एक होटल से गिरफ्तार किया गया था। भारतीय एजेंसियों के इनपुट के आधार पर यह गिरफ्तारी हुई थी। उस पर भारतीय एजेंसियां लगातार नजर रखे हुए थीं।
गैंगस्टर रवि पुजारी सबसे पहले 2000 के शुरुआती दशक में चर्चा में आया था, जब उसने बॉलीवुड की प्रसिद्ध हस्तियों और बिल्डरों से वसूली करना शुरू किया था। वह मुंबई के एक प्रतिष्ठित वकील की हत्या के प्रयास में भी शामिल था। पुजारी की पत्नी पद्मा और बच्चे भी भारत से भाग गए और उनमें से कुछ ने जाली दस्तावेजों से बुर्किना फासो का पासपोर्ट हासिल कर लिया। बताया जा रहा है कि रवि पुजारी के बेटे ने हाल ही में ऑस्ट्रेलिया में शादी की है और उसके पास ऑस्ट्रेलिया का पासपोर्ट है।
कई बॉलीवुड हस्तियों की नाक में दम कर रखा था रवि पुजारी ने
रवि पुजारी के नाम से एक समय पूरा बॉलीवुड घबराता था। वह सिनेमा की कई हस्तियों को धमका चुका था जिसमें प्रीती जिंटा के बॉयफ्रेंड नेश वाडिया से लेकर सलमान खान, शाहरुख खान, यश चोपड़ा, बोनी कपूर, महेश भट्ट आदि के नाम शामिल हैं।

सनसनीखेज खुलासा: (पूरी बातचीत) दाऊद,इमरान,सईद?

दिल्ली में एकदम से प्रदर्शन की बाढ़ यूं ही नही आई,इसके तार जुड़े हैं सीमा पार,अमरिकी राष्ट्रपति के हिंदुस्तान में होने के कारण पूरी दुनिया का मीडिया यहां मौजूद रहेगा और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की छवि को नुकसान पहुंचाने का प्रयास है।
सूत्रों ने बताया कि गृह विभाग ने सीमा पार से हुई बातचीत पकड़ी है,जिससे षड्यंत्र गहरा गया है,भारत से भागे कुख्यात भगोड़े और आतंकवादी दाऊद इब्राहिम और उसके गुट का नाम सामने आया है,
बातचीत का जो ब्यौरा मिला है…
पाकिस्तान से
दा… ” कैसा चल रहा है,
नेता-” भाई ठीक है’
D..-“पैसे बांटे”
ने- “जी भाई
D- गयी बार तू और दूसरा खा गए थे
ने-भाई वो खाना खिलाने में ज्यादा लग गए थे
D- दो दिन जितना हो सकता है करना है,नही तो तुझे कुछ और खिलाऊंगा।
ने- नही भाई,बिरयानी की देगे भरवा दी हैं,मीठा भी ज्यादा से ज्यादा है,
D- इससे तो औरतें रुकी रहेंगी,बाकी पत्रकारों की लिस्ट मिल गयी,जिनको इंटरव्यू देना है,औरतों को,
ने-जी भाई,वो आ… मियां ने दे दी थी,
D- दो दिन यदि कोई कमी की तो सबको समझा देना,
ने-वो लंगर वाले भिजवा दो भाई,उससे एक धरम का नही लगता मामला,
D- सरदार को खबर की है वो भेजेगा,फोटो डालते रहा करो उनके,
ने-भाई और कोई हुक्म
D- औरतों को खाना खिलवाते रहो और जितने जानवर कटवाने हो डलवाओ,बिरयानी और मीठे पर सब बैठी रहेंगी,
ने-जी भाई
D- मौलाना से कहना फोन करूँगा।
ने-जी भाई,
D-और उनके नेताओ का क्या हुआ (अपमानजनक शब्द)…
ने- उनके समाज को आगे कर रहे है पर उनके नेता पैसे बहुत मांगते हैं,
D- दो दिन शराब और पैसे में कमी मत करो,ये बिकाऊ लोग हैं इनके नेताओं को नज़र में रखो,
ने- जी भाई
D- जाओ और जितना फैला सको फैलाओ,
ने-अल्लाह हाफिज भाई,
D- मौलाना को बोल देना,जाओ
अल्लाह हाफिज…
नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ शनिवार देर शाम से अचानक नए सिरे से विरोध-प्रदर्शन शुरू हो चुके हैं, जो रविवार आते-आते तेजी से बढ़ते हुए कुछ जगहों पर हिंसक रूप ले चुके हैं। नए सिरे से शुरू हुए विरोध प्रदर्शन दिल्ली, अलीगढ़, पटना आदि कई जगहों पर होते हुए दिख रहे हैं। अचानक से शुरू हुए विरोध प्रदर्शन एक आम नागरिक के मन में कई सवाल खड़े रहे हैं। पिछले 24 घंटे के दौरान घटी घटनाओं की कड़ियों को जोड़कर देखने पर जेहन में सवाल उठता है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप के दौरे से ठीक पहले कहीं ये सुनियोजित विरोध-प्रदर्शन तो नहीं है। आइए तमाम बिंदुओं पर गौर करके सारे पहलुओं को समझने की कोशिश करते हैं।
शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों के बीच फूट
दिल्ली के शाहीन बाग में पिछले 71 दिनों से सीएए के विरोध में लोग जमा हैं। प्रदर्शकारी यहां रोड को जाम करके बैठे हैं, जिससे आम लोगों को काफी परेशानी हो रही है। इन लोगों को समझा-बुझाकर यहां से हटाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने साधना रामचंद्रन और संजय हेगड़े को वार्ताकार नियुक्त किया है। इन दोनों वार्ताकारों की कोशिश के बाद शनिवार को शाहीन बाग के प्रदर्शकारी एक तरफ की रोड खोलने को तैयार हो गए। हालांकि कुछ देर बाद ही प्रदर्शकारियों के दूसरे गुट के लोगों ने दोबारा से रोड को बंद करने की कोशिश की। इस घटना से साफ हो गया कि प्रदर्शकारियों के बीच फूट है। अगर आप आंदोलन के इतिहास पर नजर डालें तो जब कभी भी प्रदर्शकारियों के बीच मतभेद के हालात बनते हैं तो उस आंदोलन का खत्म होना तय माना जाता है। शनिवार और रविवार को दिल्ली और अलीगढ़ के अलग-अलग जगहों पर शुरू हुए प्रदर्शन इस बात के संदेह पैदा करते हैं कि कोई पर्दे के पीछे रहकर इस आंदोलन को जिंदा रखना चाहता है।
शाहीन बाग के कमजोर होते ही भीम आर्मी हुई ऐक्टिव
शनिवार शाम को शाहीन बाग में रास्ता खुलने की खबर आई तो संकेत मिले की अब यह आंदोलन जल्द ही खत्म हो जाएगा, लेकिन देर शाम तक सोशल मीडिया पर अचानक से भीम आर्मी के भड़काऊ विडियो आने लगे। रविवार को भीम आर्मी ने भारत बंद का आह्वान कर दिया। उसने उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में बड़े स्तर पर शक्ति प्रदर्शन करने की कोशिश की। बिहार के पटना, नवादा, आरा, सीवान, जहानाबाद आदि जगहों पर भीम आर्मी के लोगों ने ट्रेनें रोक दीं।
वहीं दिल्ली में तो भीम आर्मी ने शाहीन बाग की तर्ज पर सीलमपुर में दोबारा से आंदोलन खड़ा करने की कोशिश की। जाफराबाद में चक्का जाम कर दिया। यहां गौर करने वाली बात यह है कि भीम आर्मी कोई राजनीतिक दल नहीं है। यह संगठन उत्तर प्रदेश के कुछ इलाकों तक सीमित है। ऐसे में सवाल उठता है कि भीम आर्मी ने एक रात में देश के अलग-अलग हिस्सों में इतना बड़ा आंदोलन कैसे खड़ा कर दिया? इतने बड़े आंदोलने के लिए भीम आर्मी के पास पैसे कहां से आए? यह सवाल भी खड़ा होता है कि भीम आर्मी को मुखौटा बना इन सबके पीछे कोई अन्य ताकत तो नहीं है।
दिल्ली में जाफराबाद में कहां से जुटाई गईं इतनी महिलाएं
जाफराबाद में शनिवार देर रात करीबन 200 से 300 महिलाओं ने आकर मेट्रो के नीचे प्रदर्शन करना शुरू कर दिया था, जिसके बाद वहां बड़ी संख्या में पुलिस के जवान और अर्द्धसैनिक बलों को तैनात किया गया। महिला प्रदर्शनकारियों को देखते हुए महिला जवानों को भी तैनात किया गया है। अभी फिलहाल जिस रास्ते पर प्रदर्शनकारी बैठे हैं, वहां एक तरफ रोड खुली हुई है जिसकी वजह से जाम भी लग रहा है। प्रदर्शनकारी महिलाओं ने रोड नंबर 66 जाम कर रखा है, जिस सड़क पर महिलाएं प्रदर्शन कर रही हैं, वह सड़क सीलमपुर को मौजपुर और यमुना विहार से जोड़ती है। प्रदर्शनकारी महिलाओं ने बताया कि शाहीन बाग की तरह वे भी सीएए और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शन करेंगी।

LOVE JIHAD सनसनीखेज खुलासा: 1 ही लड़के ने बेच दी 3 हिन्दू लड़कियां,अब डांस बार मे,नंगा तक नाचना पड़ता है

दुबई में हिंदू लड़कियों के हालात पर अशोक भारती की रिपोर्ट
        मैने दुबई भ्रमण के दौरान होटलों रेस्तरां नाचघरों में  लड़कियां को काम करते हुए देखा, जब भी मैंने उनसे बात करने के प्रयास किया, वह सहम जाती थी रात को बाहर जाते समय उनके साथ 1-2 नीग्रो होते थे   मैने कई बार प्रयास किया ,फिर मैंने  एक पठान टैक्सी  ड्राईवर की मदद से नीग्रो को कुछ पैसे देकर बात करने पर राजी किया
और हमारी भेट १ भारतीय रेस्टोरेंट सागर रत्न में हुई। सभी लड़कियां भारत के अलग अलग भागों से अच्छे परिवारों से है और कुछ एक ने तो अपने परिवार से विद्रोह  करके अपने ही घर से चोरी करके  गहने-कैश लेकर अपने  मुस्लिम प्रेमी के साथ भाग कर  विवाह किया था और कुछ महीने प्रेमी के साथ बिताने के बाद दुबई घूमने आयी थी, और मुस्लिम लड़को ने उनके साथ ऐश करने के बाद  उन्हें  बेच दिया था। कुछ ने बताया कि उनका मुस्लिम पति दुबई में ही जॉब करता है और साथ रखने के लिए आई थी पर यहाँ बेच दिया गया*
उनमें से ३ लड़कियां तो ऐसी थी जिन्हे १ ही मुस्लिम लड़के  अलग अलग स्थानों पर विवाह कर के यहाँ बेचा था,उन लड़कियों ने बताया कि हमारे अलावा भी बहुत सी लड़कियां है जो अलग अलग होटलों नाच घरों में नरक भोग रही है। अधिकतर  लड़कियां ने बताया कि उन्होंने बड़ा अपराध किया। और  उसकी सजा के रूप में नरक भोग रही है।
 मैने उन्हें वापिस भारत अपने घर लौटने के लिए कहा तो सब ने मना कर दिया ,अब उनके लिए भारत में कुछ नहीं है ,हम न तो परिवार और समाज को अपना मुँह दिखाने लायक  रही और न हमारे पास कोई दूसरा सोर्स जिससे अपने रहने खाने की व्यवस्था कर सके ,अब तो  इसी नरक रहना है और फिर भगवान् जाने क्या होगा जब आयु ढल जाएगी।*
लगभग सभी लड़कियां ने अपने पढाई पूरी नहीं की थी , स्कूल- कॉलेज की पढाई के दौरान ही प्यार हुआ और विवाह किया था , वैसे तो पूरे भारत से लड़कियां इस इस्लामिक जिहादियों के जाल में फसंती है पर सबसे अधिक उत्तराखंड से आई हुई थी। १ लड़की तो दिल्ली के पंजाबी सरकारी अफसर की बेटी थी ,और सब लड़कियां हिन्दू स्वर्ण समाज से ही थी ,वैसे नाम के लिए तो ये सभी लड़कियां होटल-रैस्टोरेंट  बार में काम  करती थी, पर वहाँ  आने वाले ग्राहकों को खुश रखने के लिए देह व्यापर करने पर भी बाध्य थी।
मेरे बहुत अधिक आग्रह करने पर दिल्ली की २ लड़की अपने परिवार का पता और फोन नंबर देने पर राजी हुई। मेने उन्हें समझाया था कि मैं अपनी और से प्रयास करूँगा कि आपका परिवार आपको स्वीकार करें और आप इस नर्क से निकल कर वापिस भारत अपने परिवारों के साथ रहें। मेने दिल्ली में उनके परिवारों से मिलने के लिए गया। और उनकी बेटी की स्थति अवगत कराया पर दोनों के परिवार नहीं चाहते कि लड़कियां वापिस आएं। वे अब उनके लिए मर गई है। आत्मा तो मर ही गई है। पर देह जीवित है।
मेरा अपने हिन्दू-सिक्ख भाई बहनों से निवेदन है कि अपने घरों बच्चों  के आसपास मंडराने हुए देंखे तो खुद भी सचेत हो जायें और बच्चों को भी जागरूक करें ,ताकि हमारी बेटियां इन जिहादियों के जाल में न फंसे
        पोस्ट को शेयर जरूर करें क्या पता आके एक पोस्ट्स किसी भीं की जिंदगी बच जाए और मुस्लिमों के नकली प्रेम जाल में फंसने वाली हिंदू लड़कियों की आंखें खुल जाए ।
     🙏🏾🙏🏾🙏🏾🙏🏾🙏🏾
(सोशल मीडिया फेसबुक पर प्रकाशित)

BREAKING NEWS नया ऐलान NO DEMOCRACY, ONLY ALLAH

देशद्रोह के आरोपी जेएनयू (JNU) के छात्र शरजील इमाम (Sharjeel Imam) को दिल्ली पुलिस ने बिहार पुलिस की मदद से जहानाबाद जिले के काको थानाक्षेत्र से 28 जनवरी को गिरफ्तार किया और रातभर पटना के जेल में रखने के बाद बुधवार की सुबह फ्लाइट से लेकर दिल्ली चली गई थी।
शरजील इमाम के समर्थन में जामिया मिलिया इस्लामिया के छात्रों द्वारा रैली निकालने के बाद अब इन छात्रों ने ऐलान किया है कि वो लोकतंत्र को नहीं, अल्लाह को मानते हैं। फेसबुक पर Students of Jamia नाम के पेज ने ये पोस्ट किया है। इसमें लिखा गया है कि ला इलाहा इल्लल्लाह मुहम्मद रसुल्लाह, लोकतंत्र के खिलाफ है।
Students of Jamia द्वारा शेयर किया गया फेसबुक पोस्ट
इस पेज ने Al Haya Min Allah नाम के एक पेज को शेयर किया है। जिस पर लिखा गया है कि लोकतंत्र के सिद्धांत के विपरीत, इस्लाम जोर देकर कहता है कि हक को मेजॉरिटी के साथ परिभाषित नहीं किया गया है।
इसमें मसनद अहमद के हवाले से कहा गया है कि पैगंबर मोहम्मद ने कहा था कि कई दुष्ट लोगों के बीच धार्मिक लोग भी होते हैं। जो उनकी अवहेलना करते हैं, उनकी संख्या उनके मानने वालों की तुलना में अधिक होती है। अल्लाह सार्वजनिक रूप से स्वीकृत मेजरिटेरिज्म के खिलाफ बात करते हैं। और यदि आप उन लोगों की बातें मानते हैं तो वो आपको अल्लाह के रास्ते से गुमराह करेंगे।
एक तरफ जहाँ सीएए का विरोध करते हुए ये कहा जा रहा है कि वो लोकतंत्र और संविधान का पालन कर रहे हैं, उसकी रक्षा कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ जामिया के छात्रों का इस तरह से खुले तौर पर कहना कि उनके अल्लाह लोकतंत्र के खिलाफ हैं, कई सवाल खड़े करता है। जब जामिया के दंगाईयों पर पुलिस ने कार्रवाई की थी तो वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता कपिल सिब्बल समेत कई नेताओं ने इस पर आपत्ति जताते हुए इसे लोकतंत्र की हत्या बताया था। उनका कहना था कि लोकतंत्र कमजोर हो रहा है, मगर अब जो जामिया के छात्र कर रहे हैं, वो क्या है?
बता दें कि इसी जामिया के छात्रों ने असम को हिंदुस्तान से काटने की बात करने वाले शरजील इमाम के समर्थन में मार्च निकाला था। इस दौरान नारेबाजी की थी“शरजील तुम संघर्ष करो, हम तुम्हारे साथ हैं। शरजील तुम आगे बढ़ो, हम तुम्हारे साथ हैं। शरजील को रिहा करो।”
उल्लेखनीय है कि शरजील ही शाहीन बाग विरोध प्रदर्शन का मुख्य चेहरा था, जो घूम-घूम कर भड़काऊ भाषण दे रहा था। उसने मस्जिदों में आपत्तिजनक पोस्टर्स बाँटे थे। ऐसे में शरजील के समर्थन में जामिया के छात्रों का खड़ा होना संदेह पैदा करता है। मार्च के दौरान इन छात्रों ने हज़ारों शरजील इमाम पैदा करने की बात कही। इससे पहले लखनऊ में भी शरजील इमाम के समर्थन में मार्च निकालने की कोशिश की गई थी। हालाँकि योगी आदित्यनाथ की सरकार के प्रयासों के कारण ये संभव नहीं हो सका।

【LIVE VIDEO】 डोनाल्ड ट्रम्प ने लिया बाहुबली अवतार,कहा भारत मे अपने शानदार दोस्तो से मिलने को बेताब

डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे से पहले जोर-शोर से तैयारियाँ चल रही हैं। अपने भारत दौरे को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति भी कम उत्साहित नजर नहीं आ रहे हैं। डोनाल्ड ट्रंप ने अपने भारत दौरे पर रवाना होने से पहले एक ट्वीट को रिट्वीट किया है, जिसमें वह हिंदी फिल्म इंडस्ट्री की सबसे सफल फिल्म ‘बाहुबली’ के मीम में नजर आ रहे हैं। इस ट्वीट को रिट्वीट करते हुए ट्रंप ने लिखा है, “भारत में अपने शानदार दोस्तों से मिलने के लिए उत्सुक हूँ।“
1 मिनट 21 सेकंड का ये मीम वीडियो ट्विटर हैंडल @Silmemes1 से पोस्ट किया गया है। सबसे खास बात है कि डोनाल्ड ट्रंप ने इसे रिट्वीट किया है। इसमें ऐनिमेटेड किरदारों के साथ भारत और अमेरिका की दोस्ती को दिखाया गया है। इसके साथ ही ‘बाहुबली’ फिल्म की एक फुटेज को एडिट किया गया है, जिसमें ट्रंप को बाहुबली के तौर दिखाया गया है।

 

उनका चेहरा फिल्म के एक्टर प्रभास की जगह पर पोस्ट किया गया है। इस वीडियो में वह पत्नी मेलानिया ट्रंप के साथ रथ पर बैठे भी देखे जा सकते हैं। यही नहीं, ट्रंप अपनी बेटी इवांका और उनके पति जैरेड को कंधों पर बिठाए भी दिखते हैं। वीडियो में पीएम नरेंद्र मोदी और उनकी पत्नी जशोदाबेन को भी देखा जा सकता है। पूरे मीम वीडियो में ‘बाहुबली’ का लोकप्रिय गाना भी है।

【LIVE VIDEO】 BREAKING NEWS मुसलमान औरतों के एक समूह ने कब्जा किया जाफराबाद मुख्य मार्ग पर

शाहीनबाग के बाद मुसलमान औरतों के एक समूह ने जाफराबाद मुख्य मार्ग पर भी कब्जा कर लिया है।
नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनआरसी) के विरोध में पिछले डेढ़ माह से जाफराबाद रोड पर धरने पर बैठी महिलाएं, देर रात जाफराबाद मुख्य सड़क पर उतर आईं और नारेबाजी करते हुए एक तरफ से रास्ते को बंद कर दिया।
सूचना मिलते ही पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए। अधिकारियों ने प्रदर्शन कर रही महिलाओं व लोगों को समझाने का प्रयास किया लेकिन जब वह तैयार नहीं हुए तो पुलिस व अर्द्धसैनिक बलों ने महिलाओं को खदेड़ दिया। हालांकि खदेड़ने के बाद वापस सड़क पर आकर डट गईं। देर रात तक जाफराबाद में अफरा-तफरी का माहौल रहा। पुलिस अधिकारी ड्रोन उड़ाकर हालात का जायजा ले रहे थे।
बताया जा रहा है कि सीएए और एनआरसी के विरोध में जाफराबाद में महिलाएं धरने पर बैठी हुई हैं। आज सुबह महिलाओं को जाफराबाद रोड से लेकर राजघाट तक पैदल मार्च निकालना है। दिल्ली पुलिस ने मार्च निकालने की अनुमति नहीं दी है।
रविवार को निकाले जाने वाले मार्च को देखते हुए पुलिस अधिकारियो ने एतिहात के तौर पर शनिवार रात से ही जाफराबाद रोड पर पुलिस और अर्द्धसैनिक बल तैनात को दिया था। रोड पर पुलिस तैनात होते ही जाफराबाद में तनाव का माहौल हो गया। करीब साढ़े दस बजे धरने पर बैठी महिलाएं जाफराबाद मुख्य सड़क पर आ गईं और मेट्रो स्टेशन के पास जाम लगा दिया। आधे घंटे तक महिलाओं ने सड़क को बंद कर दिया।
मुख्य मार्ग होने की वजह से वहां लंबा जाम लग गया। इसके बाद पुलिस बल ने महिलाओं को समझाने की कोशिश की। नाकाम होने पर पुलिस ने उन्हें खदेड़ दिया। इसके बावजूद महिलाएं कभी गली तो कभी सड़क पर आकर नारेबाजी करने लगीं जो देर रात तक जारी था।
यमुनापार में शास्त्री पार्क, कर्दमपुरी, श्रीराम कॉलोनी, सुंदर नगरी, चांद बाग, मुस्तफाबाद, और जाफराबाद में  डेढ़ माह से सीएए के विरोध में धरना चल रहा है। इन धरना स्थलों पर बैठी महिलाएं रविवार को जंतर मंतर तक मार्च निकालने वाली थीं। दिसंबर माह में जाफराबाद और सीलमपुर में सीएए को लेकर हिंसक प्रदर्शन हुए थे।