BREAKING NEWS कुख्यात अल कायदा आतंकवादी मुखिया आसिम उमर मार गिराया,नरेंद्र मोदी को दी थी धमकी

0
364
आतंकी संगठन अल कायदा का इंडिया सबकॉन्टिनेंट (AQIS) चीफ मौलाना आसिम उमर को अफघानिस्तान में मार गिराया। आसिम अल कायदा चीफ अयमान अल जवाहिरी का करीबी था। उसने 2015 मे वीडियो जारी कर अमेरिका,संयुक्त राष्ट्र संघ और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को इस्लाम का दुश्मन बताते हुए हमले की धमकी दी थी।बताते चले की आसिम उत्तर प्रदेश के संभल का निवासी था और 90 के दशक में लापता हो गया था।

NDS Afghanistan@NDSAfghanistan

1/2: BREAKING: can now confirm the death of Asim Omar, leader of in the Subcontinent (AQIS), in a joint US-Afghan raid on a Taliban compound in Musa Qala district of Helmand province on Sep. 23.

View image on TwitterView image on Twitter
355 people are talking about this
अफघान नेशनल डायरेक्टरेटने ट्विटर पर बताया कि आसिम के साथ संगठन के छह अन्य सदस्यों को भी मार गिराया है।अमेरिका और अफघानिस्तान की सेना के ज्वाइंट ऑपरेशन में आसिम उमर को 22,23 सप्टेम्बर में ढेर किया गया था लेकिन इसकी पुष्टि मंगलवार 8 ओक्टोबर को की गर्इ। आसिम को 2014 में अल कायदा चीफ अयमान जवाहिरी ने एक वीडियो जारी कर भारतीय उपमहाद्वीप का चीफ बनाया गया था।
सुरक्षा बलों ने हेलमंद प्रांत के मुसा काला जिले में 23 सितंबर को तालिबान के एक परिसर पर छापा मारा था। उस छापेमारी में आसिम उमर मारा गया।
अमेरिकी हवाई हमले में ढेर हुआ अलकायदा का भारतीय उपमहाद्वीप का कमांडर मौलाना आसिम उमर उत्तर प्रदेश का रहने वाला है। आसिम उमर सितंबर में अफगानिस्तान में हुई अमेरिकी एयर स्ट्राइक में मारा गया था। उमर उत्तर प्रदेश के संभल जिले का रहने वाला था, जहां वह सनाउल हक उर्फ सन्नू के नाम से जाना जाता था। वह संभल के दीपा सराय इलाके में रहता था, लेकिन 1990 के दशक के आखिरी दौर में वह पाकिस्तान चला गया था।
US बमबारी में अल कायदा साउथ एशिया चीफ ढेर
जुलाई, 2018 में अमेरिका ने आसिम उमर को अपनी ग्लोबल टेररिस्ट की लिस्ट में डाल दिया था। इसके साथ ही अमेरिका ने अलकायदा की भारतीय उपमहाद्वीप इकाई को भी विदेशी आतंकी संगठनों की सूची में डाला था। अफगानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा निदेशालय ने
आतंकी आसिम उमर के मारे जाने की पुष्टि की है। इसके साथ ही 23 सितंबर को हुए हमले में अफगानिस्तान के हेलमांड प्रांत के मूसा काला जिले में 6 अन्य अलकायदा आतंकियों के भी ढेर होने की भी पुष्टि की गई है।
दारुल उलूम देवबंद से किया था ग्रैजुएशन
उमर ने दारुल उलूम देवबंद से 1991 में ग्रैजुएशन किया था। इसके बाद पाकिस्तान जाने पर वह नौशेरा स्थित दारुल उलूम हक्कानिया से जुड़ा था, इस मदरसे को जिहाद यूनिवर्सिटी कहा जाता है। अपनी दीनी और असकारी ट्रेनिंग के बाद उमर आतंकी संगठन हरकत-उल-मुजाहिदीन का हिस्सा बन गया था। इसके बाद वह तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान से जुड़ गया।
जवाहिरी ने आसिम को बनाया था अलकायदा कमांडर
सितंबर, 2014 में एक विडियो संदेश के जरिए अलकायदा के सरगना अयमान अल-जवाहिरी ने भारत, म्यांमार और बांग्लादेश में आतंकी गतिविधियों को बढ़ाने का ऐलान करते हुए भारतीय उपमहाद्वीप के लिए भी यूनिट के गठन की बात कही थी। इसके बाद जवाहिरी ने उमर को भारतीय उपमहाद्वीप में आतंकवाद फैलाने के लिए कमांडर के तौर पर चुना था। उसी साल अफगानिस्तान के मिरान शाह शहर में जवाहिरी ने आसिम उमर को कमांडर बनाया था।