Thursday, March 4, 2021
Uncategorized

अनुराग कश्यप, तापसी पन्नू, चोरी मामला350 करोड़ की टैक्स चोरी पकड़ा गयी अब तक,650 करोड़ का अंदेशा

नई दिल्ली: टैक्स चोरी के मामले में फिल्ममेकर अनुराग कश्यप (Anurag Kashyap) और एक्ट्रेस तापसी पन्नू (Taapsee Pannu) पर आयकर विभाग (IT Department) का शिकंजा कसता जा रहा है. बुधवार को देर रात तक दोनों से पूछताछ चलती रही. दोनों अपनी फिल्म की शूटिंग के सिलसिले में पुणे में थे, जहां उनसे होटल में पूछताछ की गई. अब इस मामले में एक और नया खुलासा हुआ है. इससे पहले भी छापेमारी के कुछ कारण सामने आए थे.

ये भी है एक वजह

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income Tax Department) के सूत्रों के मुताबिक फैंटम फिल्म्स (Phantom Films) ने अपने कुछ शेयर Inflated Rate पर रिलायंस एंटरटेनमेंट को बेचे थे, जिसका टैक्स भी नहीं चुकाया गया है. ये भी फैंटम फिल्म्स पर इनकम टैक्स की रेड की मुख्य वजहों में से एक है.

भेजा गया था नोटिस

करीब 20 दिन पहले इनकम टैक्स डिपार्टमेंट (Income Tax Department) ने फैंटम फिल्म्स से जुड़े डायरेक्टर्स, एक्टर्स, प्रोड्यूसर्स, डिस्ट्रीब्यूटर्स को नोटिस भेजा था. इनमें से अधिकतर लोगों ने नोटिस का जवाब दिया था की फैंटम फिल्म कंपनी साल 2018 में डिसॉल्व हो गयी है और वो सभी अब उससे जुड़े हुए नहीं हैं. इनकम टैक्स विभाग के सूत्रों के मुताबिक IT विभाग क्रॉस चेकिंग के लिए फैंटम फिल्म्स से जुड़े ऑडिटर्स से भी संपर्क कर सकती है.

सामने आई थी ये बात

बता दें, इससे पहले भी कई खुलासे हुए. आयकर सूत्र के मुताबिक अनुराग (Anurag Kashyap) और तापसी पन्नू (Taapsee Pannu) पर आयकर छापेमारी का मूल कारण सामने आ गया है. बताया जा रहा है कि इस छापेमारी की वजह है अनुराग कश्यप का हाल ही में किया गया प्रॉपर्टी निवेश. अनुराग ने 16 करोड़ रुपये घर खरीदने में निवेश किए हैं. इस घर को खरीदने में बड़ी राशि उस कम्पनी के अकाउंट से दी गई, जो कंपनी अब बंद कर दी गई है.

अब बढ़ गया है मामला

इसके साथ ही कहा जा रहा है कि तापसी पन्नू (Taapsee Pannu) ने अपने घर का इन्टीरियर डिजाइन और डेकोर कराया था. इसका पेमेंट भी इसी कंपनी के खाते से किया गया. इन मामलों की वजह से ये जांच शुरू हुई, जो अब साल 2011 से वर्तमान आयकर अदायगी तक पहुंच गई है. आयकर को इस बात की जानकारी मिली है कि कंपनी के लाभ छुपाने के लिए कंपनी को बंद कर दिया गया है. फैंटम फिल्म्स (Phantom Films) से जुड़े सभी लोगों और इससे कंपनी के खाते से किए गए भुगतान की जांच की जा रही है.

फंक्शनल नहीं रहा ‘फैंटम फिल्म्स’

‘फैंटम फिल्म्स’ (Phantom Films) एक प्राइवेट एंटरटेनमेंट कंपनी थी, जिसकी स्थापना 2010 में हुई थी. इस कंपनी के फाउंडर हैं अनुराग कश्यप (Anurag Kashyap), विक्रमादित्य मोटवानी (Vikramaditya Motwane), विकास बहल (Vikas Bahl) और मधु मंटेना (Madhu Mantena). ये कंपनी फिल्म प्रोडक्शन और डिस्ट्रीब्यूशन का काम करती थी. मार्च 2015 में रिलायंस एंटरटेनमेंट ने इसमें 50 फीसदी हिस्सेदारी खरीद ली थी. इसके बाद 2018 में विकास बहल (Vikas Bahl) को इस कंपनी बेदखल कर दिया गया. बाद में ये प्रोडक्शन हाउस डीफंक्ट हो गया. सबने घोषणा की कि ये सारे फिल्ममेकर्स अपनी फिल्में अब अलग-अलग बनाएंगे. बाद में अनुराग कश्यप ने नई प्रोडक्शन कंपनी ‘गुड बैड फिल्म्स’ शुरू की, जबकि मोटवानी ने ‘आंदोलन फिल्म्स’ शुरू किया.

 

4 शहर-28 ठिकाने, ₹300 करोड़ का हिसाब नहीं: अनुराग कश्यप, तापसी पन्नू सहित अन्य पर रेड में टैक्स चोरी के बड़े सबूत

फिल्म डायरेक्टर अनुराग कश्यप, अभिनेत्री तापसी पन्नू सहित अन्य के ठिकानों पर आयकर विभाग (IT dept) की छापेमारी में बड़े पैमाने पर टैक्स चोरी पकड़े जाने की बात सामने आ रही है। आईटी डिपार्टमेंट की छापेमारी लगातार दूसरे दिन गुरुवार (4 मार्च 2021) को भी जारी रही।

चार शहरों- मुंबई, पुणे, दिल्ली और हैदराबाद के 28 ठिकानों पर कार्रवाई हुईHHछह है। सीबीडीटी ने बताया है कि आयकर विभाग सर्च और सर्वे ऑपरेशंस अंजाम दे रहा है। इसकी शुरुआत मुंबई में 2 फिल्म निर्माण कंपनियों, एक अभिनेत्री और दो टैलेंट मैनेजमेंट कंपनियों से 3 मार्च को हुई थी।

सीबीडीटी का कहना है कि 5 करोड़ रुपए कैश पेमेंट लेने की रसीदें तापसी पन्नू के घर से बरामद हुई हैं। कथित तौर पर टैक्स बचाने के लिए यह पेमेंट कैश के तौर पर ली गई। यही नहीं फिल्म प्रोडक्शन हाउस फैंटम फिल्म्स ने बॉक्स ऑफिस पर जितने कलेक्शन की बात कही थी, उससे ज्यादा रकम की जानकारी मिली है।

कंपनी के अधिकारी 300 करोड़ रुपए का हिसाब नहीं दे पाए हैं। यह भी बताया है कि फैंटम फिल्म्स की हिस्सेदारी बेचने के लिए उसका अंडरवैल्यूएशन किया गया। फैंटम फिल्म्स को 2018 में डिजॉल्व कर दिया गया था। शेयरों की कीमत कम दिखाई और लेनदेन में गड़बड़ी की। विभाग के अनुसार कुल 350 करोड़ की टैक्स अनियमितता से यह मामला जुड़ा हुआ है।

छापे के दौरान फर्जी खर्च के भी सबूत मिले हैं। इस दौरान 20 करोड़ की टैक्स चोरी का मामला सामने आया है। करीब इतनी ही टैक्स चोरी के दायरे में तापसी भी हैं। जाँच चलने तक 7 बैंक लॉकर्स के इस्तेमाल पर भी रोक लगा दी गई है।

आयकर विभाग की कार्रवाई की गाज अनुराग कश्यप और तापसी पन्नू के अलावा विकास बहल और मधु मंटेना पर भी गिरी है। अनिल अंबानी की रिलायंस एंटरटेनमेंट के सीईटो शुभाशीष सरकार, अफसर जैदी (CEO Exceed) और विजय सुब्रमण्यम (CEO Kwan talent management agency) भी कार्रवाई की जद में हैं।

बुधवार को अधिकारियों ने छापेमारी के दौरान इन फ़िल्मी हस्तियों से पूछताछ करते हुए कुछ इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस और दस्तावेजों की जाँच की थी। विभाग के अधिकारी जानना चाहते थे कि आखिर टैक्स चोरी की रकम का बँटवारा कैसे हुआ। इससे क्या-क्या खरीदा गया और कहीं इस रकम को मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए देश से बाहर तो नहीं भेजा गया।

अधिकारियों ने जाँच के दौरान कुछ इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसों को कब्जे में लिया है। कहा जा रहा है कि तापसी और अनुराग के घर (ED) भी छापा मार सकता है। संभव है कि अनुराग और तापसी की व्हॉट्सएप चैट भी खँगाली जाए और जिन लोगों ने उनकी फिल्मों में निवेश किया उनसे भी पूछताछ हो।

इस रेड  के डिया पर हड़कंप मच गया। वहीं कॉन्ग्रेस और एनसीपी ने इस कार्रवाई को केंद्र सरकार का बदला कहा। जबकि केंद्र की मानें तो आईटी रेड कानून के मुताबिक हुई है।

गौरतलब है अनुराग कश्यप और तापसी पन्नू पहले ऐसे बॉलीवुड के जाने-माने चेहरे नहीं है जिन पर आईटी विभाग ने शिकंजा कसा हो। इससे पूर्व एकता कपूर के घर पर भी आईटी ने रेड मारी थी। ये मामला शूटआउट एट वडाला के रिलीज से पहले का है। इसी प्रकार कटरीना कैफ के घर पर भी साल 2011 में छापा पड़ा था। प्रियंका चोपड़ा के घर भी 2011 में छापेमारी हुई थी। इसी तरह 90 के दशक की मशहूर अदाकारा माधुरी दीक्षित के घर भी सालों पहले आईटी रेड पड़ी थी।

Leave a Reply