नमकहरामों ने देश का झंडा फाड़ा और जलाया,घर के पाले हुए सांप,इंग्लैंड ने माफी मांगी

0
784
भारतीय गणतंत्र दिवस पर लंदन में अलगाववादी समूहों द्वारा तिरंगा जलाए जाने की घटना को लेकर ब्रिटिश सरकार ने सोमवार को खेद जताया है। अलगाववादियों ने भारतीय उच्चायोग के सामने बाहर प्रदर्शन करते हुए भारतीय ध्वज जलाया था।
विदेश और राष्ट्रमंडल कार्यालय(एफसीओ) ने सोमवार को कहा कि यह बहुत खेदजनक है कि अलगाववादियों ने ऐसे अवसर और जगह को इस कुकृत्य के लिए चुना। जबकि स्कॉटलैंड यार्ड ने शनिवार को ऐसी घटना होने की संभावना की पुष्टि की थी।
एफसीओ के एक प्रवक्ता ने कहा कि गणतंत्र दिवस के ही दिन भारतीय झंडा को जलाया गया, इसके लिए वे बहुत निराश हैं। उन्होंने भारत को गणतंत्र दिवस की बधाई देते हुए कहा कि ब्रिटेन भारत के साथ अपने संबंधों को लेकर बहुत सकारात्मक है। ब्रिटेन यूरोपियन संघों को छोड़ने और वैश्विक परिदृश्य में नए साझेदारों के साथ संबंध बनाने को तत्पर हैं।
मालूम हो कि शनिवार को कुछ ब्रिटिश सिख और कश्मीरी संगठनों के कार्यकर्ताओं का एक छोटा समूह भारतीय उच्चायोग इंडिया हाउस के बाहर जमा हुए थे और हाथों में तख्ती लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ नारेबाजी की थी। अलगाववादियों ने भारत विरोधी नारे भी लगाए थे।
भारतीय अधिकारियों ने पुष्टि की थी कि मेट्रोपॉलिटन पुलिस को योजनाबद्ध प्रदर्शन के बारे में अवगत कराया गया था।  कैमरे में कुछ प्रदर्शनकारियों को भारतीय ध्वज को जलाते हुए कैच किया गया था। वहीं, मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने शनिवार को एल्डविच में इंडिया हाउस के बाहर प्रदर्शन होने की बात स्वीकारी थी।
पुलिस ने शुरुआत में झंडा जलाए जाने की घटना से इंकार करते हुए कहा था कि ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं की गई है और न ही कोई गिरफ्तारी की गई है। इंडिया हाउस के बाहर प्रदर्शन होने की बात कही थी। पुलिस ने कहा था कि  सोशल मीडिया पर आए वीडियों की जांच कर रहे हैं।
विदेश और राष्ट्रमंडल कार्यालय ने प्रदर्शनकारियों को कानून के दायरे में रहते हुए प्रोटेस्ट करने की चेतावनी दी थी। प्रदर्शनकारी कथित तौर पर माइनॉरिटी एगेंस्ट मोदी ग्रुप से थे।