59 मार डाले चर्च पादरी ने,करोना वायरस ठीक करने के नाम पर

54
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक,स्वयम को  पैगंबर रुफस कहने वाले ने लोगों को कीटाणुनाशक पीने के लिए कहा था। उन्होंने वादा किया था कि वे अपनी बीमारी से ठीक हो जाएंगे। उन्होंने दावा किया कि यह दवा आपके शरीर को कोई नुकसान नहीं पहुंचाएगा, लेकिन कोरोना वायरस सहित किसी भी बीमारी के खिलाफ ये इन्सुलेशन के रूप में कार्य करता है।
‘मुझे पता है कि डेटॉल हानिकारक है, लेकिन भगवान ने मुझे इसका इस्तेमाल करने का निर्देश दिया। मैं इसे पीने वाला पहला व्यक्ति था’। उन्होंने दावा किया कि उन्हें उन लोगों से व्हाट्सएप संदेश मिल रहे थे जिन्होंने कहा था कि वे ठीक हो गए हैं।
चीन के बाद जानलेवा कोरोना वायरस एक के बाद एक कई देशों में फ़ैल चूका हैं। चपेट से जूझ रहे देश निजात पाने के लिए कई तरह के प्रयास कर रहे हैं और कई देशों ने दवा बनाने का भी दावा किया हैं। लेकिन इसी बीच जो खबर आ रही हैं वो आपको आश्चर्य में डाल सकती हैं।
यह खबर दक्षिण अफ्रीका की हैं जहां, एक चर्च के पादरी ने कोरोना वायरस से बचाने के लिए लोगों को एक दवा के तौर पर डेटॉल पिला दिया। इसका परिणाम यह हुआ की 59 लोगों को जान से हाथ धोना पड़ा, जबकि चार मौत से जूझ रहे हैं।
सूत्रों की माने तो पैगंबर रुफस ने लोगों को कीटाणुनाशक पीने के लिए कहा था। उन्होंने वादा किया था कि वे अपनी बीमारी से ठीक हो जाएंगे। उन्होंने दावा किया कि यह दवा आपके शरीर को कोई नुकसान नहीं पहुंचाएगा, लेकिन कोरोना वायरस सहित किसी भी बीमारी के खिलाफ ये इन्सुलेशन के रूप में कार्य करता है।
‘मुझे पता है कि डेटॉल हानिकारक है, लेकिन भगवान ने मुझे इसका इस्तेमाल करने का निर्देश दिया। मैं इसे पीने वाला पहला व्यक्ति था’। उन्होंने दावा किया कि उन्हें उन लोगों से व्हाट्सएप संदेश मिल रहे थे जिन्होंने कहा था कि वे ठीक हो गए हैं। फिलहाल पुलिस इस मामले की जांच में जुटी हैं।