गैंगरेप पीड़िता को जिंदा जलाने की कोशिश,गम्भीर हालत में अस्पताल में

86
उन्नाव जिले के बिहार थाना क्षेत्र के गौरा मोड़ के पास गुरुवार की भोर में गैंगरेप पीड़िता को आरोपितों ने पांच लोगों संग मिलकर जिंदा जलाने का प्रयास किया। वारदात को उस समय अंजाम दिया गया जब पीड़िता मुकदमे की तारीख पर रायबरेली के लिए ट्रेन पकड़ने जा रही थी। पीड़िता की हालत गंभीर होने पर उसे कानपुर रेफर किया गया है।
 बिहार क्षेत्र के  हिंदूनगर भाटनखेडा गांव के रहने वाले शिवम त्रिवेदी और शुभम त्रिवेदी ने  12 दिसंबर 2018 को इलाके की एक युवती को अगवा करके रायबरेली जिले के लालगंज थाना क्षेत्र में गैंगरेप किया था। जिसका मुकदमा रायबरेली जिले के थाना लालगंज में पंजीकृत है और रायबरेली कोर्ट में मामले की सुनवाई चल रही है। गुरुवार की भोर में करीब 4 बजे पीड़िता  रायबरेली जाने के लिए ट्रेन पकडने बैसवारा स्टेशन के लिए निकली  थी ।
सुमेरपुर अस्पताल में एसडीएम दयाशंकर पाठक को दिए बयान में पीड़िता ने बताया कि वह गाैरा माेड के पास पहुंची तो पहले से माैजूद गांव के हरिशंकर त्रिवेदी, रामकिशोर त्रिवेदी, उमेश बाजपेयी व रेप के आराेपित शिवम त्रिवेदी, शुभम त्रिवेदी ने लाठी, डंडे, चाकू से वार कर दिया । उसके बाद  बदन पर पेट्रोल डालकर आग लगा दी। चीखने चिल्लाने पर वहां पहुंचे आसपास के लोगों ने शोर मचाया तो आरोपित भाग गए।  पुलिस ने पीड़िता को सुमेरपुर प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचाया जहां पर हालत गंभीर होने पर जिला अस्पताल भेज दिया गया । यहां पर भी हालत नाजुक होने पर उसे कानपुर भेजा गया है।
 पीड़िता का कहना है कि आरोपी पक्ष की ओर से मुकदमा वापस लेने के लिए लगातार दबाव बनाया जा रहा था। उसने मुकदमा वापस नहीं लिया तो हमलावरों ने जान से मारने की कोशिश की। एसपी विनोद पांडे का कहना है कि रायबरेली जिले में रेप का मामला हुआ था। पीड़िता को अस्पताल पहुंचाया गया है आरोपितों की तलाश में दबिश दी जा रही है।