Monday, August 8, 2022
Uncategorized

स्कूली छात्र से माफिया डॉन तक का सफर,शुरुआत में ही की 8 हत्या,दाऊद इब्राहिम ने भी मदद मांगी थी

लखनऊ : बीते गुरुवार को 13 साल बाद माफिया डॉन बृजेश सिंह की वाराणसी सेंट्रल जेल से रिहाई हो गई. माफिया की दुनिया का बादशाह कहलाने वाला बृजेश सिंह अब एक आम जीवन जियेगा. आज हम बृजेश सिंह की पूरी कहानी आपको बताने वाले हैं जो किसी फिल्मी स्टोरी से कम नहीं है. कैसे पढ़ाई और अच्छी नौकरी करने का सपना पालने वाला अरुण उत्तर प्रदेश का बाहुबली बृजेश सिंह बन गया? एक नज़र इस कहानी पर.

फ़िल्मी है कहानी

आप कई बॉलीवुड फिल्में देखते होंगे जिसमें पिता के बदले को बेटा निभाने के लिए किसी डॉन गुंडे या माफिया के किरदार में तब्दील हो जाता है. ऐसी ही कहानी है बृजेश की भी. अरुण सिंह उर्फ बृजेश सिंह बनारस के धौरहरा गांव के संभ्रांत किसान व स्थानीय नेता रविंद्र नाथ सिंह का बेटा था जो 12वीं की परीक्षा पास कर अपने पिता के सपनों को पूरा करना चाहता था. आगे की पढ़ाई करने के लिए अरुण ने बीएससी में एडमिशन ले लिया.

पिता की हत्या का बदला

हर पिता की तरह अरुण के पिता की भी चाहत थी कि उनका बेटा अफसर बने और परिवार समेत पूरे गांव का नाम रोशन करें. 27 अगस्त 1984 की तारीख ने अरुण सिंह की जिंदगी बदल जाने वाली थी जब उसके पिता रविंद्र नाथ सिंह की गांव के ही दबंगों ने बेरहमी से हत्या कर दी. अरुण सिंह अपने पिता की हत्या से बौखला उठा और उसने ज़िंदगी बदल देने वाला फैसला किया कि वह अपने पिता की हत्या का बदला लेगा. 1 साल के अंदर ही अरुण ने 27 मई 1985 के दिन अपने पिता की हत्या के मुख्य आरोपी हरिहर सिंह की हत्या कर दी.

जेल में मिली नई पहचान

अब अरुण सिंह अब बृजेश सिंह बन चुका था और उसके ऊपर सबसे पहला हत्या का मुकदमा दर्ज हुआ था, लेकिन बृजेश सिंह पुलिस से बच निकला क्योंकि अभी भी पिता के बाकी हत्यारों का बदला बाकी था. अप्रैल 1986 की घटना है जब अरुण ने चंदौली के सिकरौरा गांव के पूर्व प्रधान रामचंद्र यादव समेत सात लोगों की गोलियों से भूनकर हत्या की. ये सभी लोग उसके पिता के हत्यारे थे. अब बृजेश के पिता की मौत का बदला उसे मिल गया था लेकिन उसका जीवन बदल गया था.

जेल में उसकी मुलाकात त्रिभुवन सिंह से हुई. त्रिभुवन ने भी अपने भाई की मौत का बदला लिया था जिसके बाद से वह जेल में बंद था. बृजेश और त्रिभुवन एक जैसे दौर से गुजरे थे ऐसे में दोनों में दोस्ती हो गई. बृजेश को जेल में जरायम की दुनिया समझ आई जो शायद उसके लिए बनी थी अब वह यहां से पैसे और ताकत की तलाश में जुट गया. बृजेश और त्रिभुवन सिंह ने स्क्रैप और बालू की ठेकेदारी करने वाले साहिब सिंह का साथ लिया और साहब सिंह को सरकारी ठेके दिलवाने लगे. इसी बीच बृजेश की टक्कर पूर्वांचल के दूसरे माफिया मुख्तार अंसारी से हुई. मुख्तार अंसारी, साहब सिंह के विरोधी मकनू सिंह के लिए काम करता.

अरुण से बना बृजेश

मकनू सिंह और साहिब सिंह तक चली आदावत सरकारी ठेकों में वर्चस्व को लेकर अब बृजेश सिंह और मुख्तार अंसारी के बीच शुरू हो गई. अब मुख्तार और बृजेश ने अपने सरपरस्तों से खुद को अलग कर अपना सिक्का जमाया. मुगलसराय की कोयला मंडी, आजमगढ़-बलिया-भदोही-बनारस से लेकर झारखंड तक शराब की तस्करी, स्क्रैप का कारोबार, रेलवे के ठेके, बालू के पट्टे को लेकर दोनों के बीच गोलीबारी का दौर शुरू हो गया.
1990 के आसपास बृजेश सिंह तब के बिहार और आज के झारखंड की और बढ़ा. वह कोयला के बड़े कारोबारी और बाहुबली सूर्यदेव सिंह के लिए काम करता था. सूर्यदेव सिंह के छह विरोधियों की हत्या भी उसी ने की. हत्याओं को लेकर बृजेश सिंह का मुख्य आरोपी के तौर पर नाम शामिल था. एक दौर वो भी आया जब बृजेश सिंह का संपर्क मुंबई के अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम से हुआ. मुंबई में दाउद इब्राहिम के बहनोई इस्माइल पारकर की अरुण गवली गैंग के शूटरों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी.

दाऊद इब्राहिम संग जुड़ा नाम

इस हत्या का बदला लेने के लिए बृजेश सिंह और सुभाष ठाकुर ने फिल्मी अंदाज में मुंबई के सबसे बड़े शूटआउट को अंजाम दिया. जहां से बृजेश सिंह का दबदबा उत्तर प्रदेश में बना क्योंकि बृजेश के साथ अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम का नाम था. हालांकि उत्तर प्रदेश में विरोधी मुख्तार अंसारी का कद अभी भी बड़ा था. मुख्तार अंसारी ने राजनीति का रास्ता अपनाया और वजूद को बड़ा किया वहीं बृजेश पर कानून का शिकंजा कसता रहा.

बृजेश सिंह की गिरफ्तारी

जुलाई 2001 में गाजीपुर के मोहम्मदाबाद के उसर चट्टी इलाके में बृजेश सिंह ने मुख्तार अंसारी पर हमला बोल दिया, जिसमें मुख्तार अंसारी और उसका गनर घायल हुआ और उनके शूटर की मौत हो गई. नवंबर 2005 में बीजेपी विधायक कृष्णानंद राय की हत्या ने मुख्तार अंसारी का दबदबा बढ़ा दिया जिससे बृजेश सिंह को अंडर ग्राउंड होना पड़ा. यूपी पुलिस ने बृजेश सिंह पर 5 लाख का इनाम रखा. बाद में साल 2008 में दिल्ली स्पेशल सेल ने बृजेश सिंह को उड़ीसा के भुवनेश्वर से गिरफ्तार किया. बृजेश सिंह उड़ीसा में यूपी छोड़ने के बाद एक कारोबारी के तौर पर रह रहा था. हालाँकि इस गिरफ्तारी के बाद बृजेश के परिवार ने भी राजनीतिक वजूद को बढ़ाना शुरू किया. उनके बड़े भाई उदयनाथ सिंह दो बार MLC रहे, पत्नी अन्नपूर्णा सिंह को एमएलसी बनाया.

बीते विधान परिषद के चुनाव में वाराणसी से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में जीती है. वाराणसी जेल में बंद बृजेश सिंह ने पत्नी को चुनाव जिताने में सफलता प्राप्त की, जबकि मैदान में भाजपा तथा समाजवादी पार्टी के भी प्रत्याशी डटे थे. बृजेश सिंह के बड़े भाई उदयनाथ सिंह उर्फ चुलबुल सिंह भी इस सीट से एमएलसी रह चुके हैं. मौजूदा समय में बृजेश सिंह के भतीजे सुशील सिंह चंदौली जिले की जिले की सैयदराजा विधानसभा सीट से विधायक हैं.

बृजेश व मुख्तार में 1996 के बाद से बढ़ी रार
हाईकोर्ट से मिली बृजेश को जमानत मुख्तार गैंग बेचैन
बाहुबली मुख्तार अंसारी के काफिले पर जब डॉन ने की थी अंधाधुंध फायरिंग

वाराणसी. इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 21 साल पुराने केस में वाराणसी जेल में बंद माफिया डॉन बृजेश सिंह को सशर्त जमानत मिल गई है. पूर्वांचल के बाहुबली और पूर्व एमएलसी बृजेश सिंह गुरुवार की शाम को 14 साल बाद जेल से बाहर आए. बृजेश सिंह पर मऊ के तत्कालीन विधायक और बाहुबली मुख्तार अंसारी पर जानलेवा हमला करने का आरोप है. मुख्तार अंसारी इन दिनों बांदा जेल में बंद हैं. बृजेश सिंह और मुख्तार अंसारी. इन दोनों की कहानी किसी फिल्म से कम नहीं है. ऐसी दुश्मनी, जिसने पूरे पूर्वांचल को हिला कर रख दिया और कई लोगों की जानें चली गई. बृजेश सिंह और मुख्तार अंसारी की दोस्ती, दुश्मनी में बदल गई.

मामला तब बिगड़ा जब साल 1991 में वाराणसी के पिंडरा से विधायक अजय राय के भाई अवधेश की मौत की खबर सुनकर बृजेश का गुस्सा सातवें आसमान पर पहुंच गया. अवधेश की हत्या में मुख्तार अंसारी और उसके गैंग का नाम सामने आया. मुख्तार अंसारी ने 1996 में पहली बार विधानसभा सदस्य बनने के बाद से बृजेश सिंह की जरायम की सत्ता को चुनौती देने लगा.

जानिए क्या है उसर चट्टी कांड
इसके बृजेश सिंह और मुख्तार अंसारी की अदावत बढ़ गई. 1996 में मुख्तार अंसारी पहली बार विधायक बना और उसका रुतबा बढ़ गया. गाजीपुर में 15 जुलाई 2001 को मोहम्मदाबाद थानाक्षेत्र के उसर चट्टी इलाके में तत्कालीन मऊ से विधायक मुख्तार अंसारी के काफिले पर बृजेश सिंह और त्रिभुवन सिंह ने मिलकर जानलेवा हमला किया था. दिन में दोपहर 12:30 बजे हुए इस हमले में मुख्तार अंसारी के गनर समेत तीन लोगों की मौत हुई थी.

तभी यह चर्चा हुई बृजेश सिंह क्रॉस फायरिंग में मारा गया. सालों तक बृजेश सिंह अंडर ग्राउंड रहा और उसने अपना कारोबार छिपकर संचालित किया. बृजेश सिंह पर यूपी पुलिस ने 5 लाख रुपये का इनाम घोषित किया था, जब दिल्ली स्पेशल सेल ने उसे भुवनेश्वर से बड़े नाटकीय ढंग से गिरफ्तार किया था. बता दें कि ब्रजेश सिंह पर 41 आपराधिक मामले दर्ज थे. इनमें से 15 में उसे बरी किया जा चुका है.

राजनीति में भी दबदबा
पूर्व विधान परिषद बृजेश सिंह की पत्नी अन्नपूर्णा सिंह बीते विधान परिषद के चुनाव में वाराणसी से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में जीती है. वाराणसी जेल में बंद बृजेश सिंह ने पत्नी को चुनाव जिताने में सफलता प्राप्त की, जबकि मैदान में भाजपा तथा समाजवादी पार्टी के भी प्रत्याशी डटे थे. बृजेश सिंह के बड़े भाई उदयनाथ सिंह उर्फ चुलबुल सिंह भी इस सीट से एमएलसी रह चुके हैं. मौजूदा समय में बृजेश सिंह के भतीजे सुशील सिंह चंदौली जिले की जिले की सैयदराजा विधानसभा सीट से विधायक हैं. उन्हें पूर्वांचल में भाजपा के कद्दावर नेता माना जाता है.

Leave a Reply