डॉ सुब्रमण्यम स्वामी का बड़ा हमला राहुल गांधी पर,राहुल बुद्धू, इसका परदादा धोखेबाज, इसका नाना हिटलर और नानी मुसोलिनी के साथ

432
रविवार (15 दिसंबर, 2019) के अपने ट्वीट में स्वामी ने लिखा कि बुद्धू को अपने परदादा (यानी देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु) के लिए माफी मांगनी चाहिए, जिन्होंने 1962 के युद्ध में सेना को धोखा दिया था।
नागरिकता विवाद के बीच दिग्गज भाजपा नेता और राज्य सभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर निशाना साधा है और उनकी नागरिकता रद्द करने की मांग की है। सांसद ने राहुल गांधी के पुरखो पर भी निशाना साधा। स्वामी ने कथित तौर पर राहुल गांधी को ‘बुद्धू’ करार देते हुए कहा कि उन्हें अपने पुरखो की गलतियों की वजह से माफी मांगनी चाहिए।
रविवार (15 दिसंबर, 2019) के अपने ट्वीट में स्वामी ने लिखा कि बुद्धू को अपने परदादा (यानी देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु) के लिए माफी मांगनी चाहिए, जिन्होंने 1962 के युद्ध में सेना को धोखा दिया था। बता दें कि इस युद्ध में भारत को हार का मुंह देखना पड़ा था। ट्वीट में लिखा गया कि उनके नाना नाना हिटलर की सेना में थे और नानी मुसोलिनो के साथ थीं। ट्वीट में आगे लिखा गया, ‘उनकी नागरिकता रद्द की जानी चाहिए।’
भाजपा सांसद के ट्वीट पर सोशल मीडिया यूजर्स ने भी प्रतिक्रिया दी है। एक यूजर्स ने लिखा कि राहुल गांधी की नागरिकता तुरंत रद्द की जानी चाहिए। स्वामी ने तुरंत इसका जवाब देते हुए लिखा, ‘इस बाबत गृह मंत्रालय को एक मेल कीजिए।’ एक यूजर्स लिखते हैं कि बुद्धू जब तक संभव होगा राजनीति में ही रहेगा और भाजपा उसे जेल नहीं भेजेगी। पप्पू विपक्ष में है इसीलिए भाजपा आसानी से जीत पाएगी। मैं चाहता हूं कि भाजपा हर चुनाव जीते और पप्पू राजनीति में हमारा मनोरंजन करता रहे।
बता दें कि नागरिकता संशोधन बिल (CAB) के कानून की शक्ल लेने के बाद उत्तर-पूर्व और देश के कई राज्यों में विरोध-प्रर्दशन जारी है। उत्तर-पूर्वी राज्यों में असम और त्रिपुरा में इस कानून का सबसे ज्यादा विरोध देखने को मिला है। पश्चिम बंगाल में भी सशोधित नागरिकता कानून (CAA) का विरोध हुआ है। इसी बीच केरल, पंजाब और पश्चिम बंगाल की सरकारों ने इस कानून को असंवैधानिक बताते हुए अपने राज्य में लागू नहीं करने की बात कही है।
सीएबी पारित होने होने के बाद सबसे बड़ा हमला कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर बोला। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने संशोधित कानून को सीधे संविधान पर हमला बताया। उन्होंने कहा कि जो कोई भी कानून का समर्थन कर रहा है वो भारत की नींव को नष्ट करने की कोशिश कर रहा है। केरल के वायनाड से सांसद राहुल गांधी ने इस बाबत ट्वीट भी किया। इसमें उन्होंने कहा, ‘नागरिकता संशोधन बिल, 2019 भारतीय संविधान पर हमला है। जो भी इसका समर्थन करता है वो हमारे राष्ट्र की नींव को नष्ट करने की कोशिश कर रहा है।’