37 गोलियां चली,3 एनकाउंटर, पुलिस ने पकड़ लिए सारे बदमाश,आतंक की दुकान खोलना चाहते थे

0
1792
गुर्जर गैंग को आखिरकार पुलिस ने हिरासत में ले दिया। गैंग को गिरफ्त में लेने के लिए पुलिस ने पांच टीम का गठन किया था। इन टीम ने शुक्रवार रात तीन स्थानों पर दबिश देकर सात बदमाशों को रात 3 बजे पकड़ा। इस दौरान पुलिस टीम और बदमाशों के बीच भिडं़त भी हुई।
हिस्ट्रीशीटर इनामी बदमाश रौनक गुर्जर और उसकी गैंग से शनिवार सुबह 4 बजे से सुबह 7 बजे के बीच तीन जगह पुलिस की मुठभेड़ हुई। आमने-सामने हुई इस मुठभेड़ में दोनों ओर से फायरिंग हुई। बदमाशों ने देसी कट्टों से पुलिस पर 12 फायर किए, जवाब में पुलिस ने भी करीब 25 फायर करते हुए बदमाश रौनक गुर्जर और रोशन गुर्जर को पैर में गोली मारकर हिरासत में ले लिया। रौनक को पुलिस ने तीन गोली मारी है। घायल हालत में उन्हें जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।
पुलिस ने बताया कि सूचना मिली थी कि रौनक गुर्जर कार में सवार होकर पिंगलेश्वर उंडासा की तरफ भाग रहा है। सूचना के बाद पुलिस बल के साथ एसपी सचिन अतुलकर खुद मौके पर पहुंचे और रौनक की कार को टक्कर मारकर रोकने का प्रयास किया। इस दौरान बदमाश रौनक ने पुलिस पर कट्टे से फायर शुरू कर दी। पुलिस ने भी जवाबी फायर करते हुए उसे अाैर साथी सूरज को हिरासत में ले लिया। इस घटना के बाद दूसरी मुठभेड़ सुबह 6 बजे तिरुपति एवेन्यू क्षेत्र में हुई, यहां टीआई अरविंद सिंह तोमर टीम के साथ घेराबंदी की तो बदमाश अनमोल दीपक और आशीष ने पुलिस पर फायर किए। यहां पुलिस ने तीनों को हिरासत में लेते हुए उनसे दो कट्टे बरामद किए।
तीसरी वारदात देवास रोड पाल खंदा के समीप 6:45 बजे हुई। 19 से अधिक अपराधों में लिप्त हिस्ट्रीशीटर बदमाश रौनक का भाई रोशन देवास रोड से भाग रहा था, जिसे पुलिस ने घेरा तो उसने फायर शुरू कर दिए, यहां सब इंस्पेक्टर महेंद्र कुमार सहित टीम के अन्य सदस्यों ने उसे पैर में दो गोली मारकर हिरासत में लिया। इसी बीच क्राइम ब्रांच की टीम ने महानंदा नगर के बिजली ग्रिड के समीप से आरोपियों के साथी अजय लोधी को भी घेराबंदी कर पकड़ लिया। सुबह सुबह 4:00 से 7:00 के बीच हुई तीनों ही घटना में सात आरोपी पुलिस ने गिरफ्तार किए हैं। इनमें चार बदमाश घायल हुए हैं, जिसमें दो को गोली लगी है। कुख्यात बदमाश रौनक गुर्जर को उज्जैन जिला अस्पताल से एमवाय रैफर कर दिया गया। पुलिस ने इन आरोपियों पर 40 हजार रुपए का इनाम रखा हुआ था।
एसपी सचिन अतुलकर ने कहा कि बदमाशों ने पहली वारदात 21 जून को की थी, चिमनगंज थाना क्षेत्र के ढांचा भवन में मोंटू गुर्जर को गोली मारी थी, तभी से आरोपी फरार थे। इसके बाद फरारी काटने के लिए रंगदारी मांगने के लिए आरोपियों ने 2 दिन पहले लोटी तिराहा के समीप मां कृपा भोजनालय के संचालक से 50 हजार रुपए मांगे थे और उस पर गोली चलाई थी। इसके कुछ देर बाद रेलवे स्टेशन के सामने स्थित सपना स्वीट्स पर भी पांच लाख की रंगदारी मांगने के लिए बदमाश पहुंचे थे और यहां पर कट्टे से फायर किए थे। आरोपियों पर 40 हजार का इनाम घोषित कर पुलिस की 5 टीमें 48 घंटों से घेराबंदी कर रही थी और इसी बीच साइबर सेल क्राइम ब्रांच लोकेशन ट्रेस की ओर घेराबंदी कर आरोपी को पकड़ लिया।
उज्जैन. शहर में दहशत फैलाने की कोशिश में लगातार वारदात को अंजाम दे रही गुर्जर गैंग को आखिरकार पुलिस ने हिरासत में ले दिया। गैंग को गिरफ्त में लेने के लिए पुलिस ने पांच टीम का गठन किया था। इन टीम ने शुक्रवार रात तीन स्थानों पर दबिश देकर सात बदमाशों को रात 3 बजे पकड़ा। इस दौरान पुलिस टीम और बदमाशों के बीच भिडं़त भी हुई।
रौनक गुर्जर को लगी तीन गोली
इसमें रौनक गुर्जर को तीन गोली और रोशन गुर्जर को दो गोली पैर में लगी। अन्य बदमाश भी घायल हुए है। इन सभी का उपचार जिला अस्पताल में जारी है। इस कार्रवाई के दौरान खुद एसपी सचिन अतुलकर मौजूद रहे। बता दे कि रौनक गुर्जर ढांचा भवन में हुए गोली कांड का आरोपी है। वहीं रोशन और अनमोज गुर्जर ने अवैध वसूली के लिए व्यापारी को गोली मारी थी।
एक सप्ताह में तीन गोली कांड
ढांचा भवन निवासी रौनक और रोशन गुर्जर सहित अन्य बदमाश एक सप्ताह में तीन गोलीकांड की वारदात को अंजाम दे चुके थे। यह गैंग शहर में दहशत फैलाने का काम कर रही थी और पुलिस के लिए चुनौती बन रही थी।
पुलिस ने भी सख्ती दिखाई और प्रशासन द्वारा बदमाशों के ऊपर ४० हजार रूपए का ईनाम घोषित किया गया और शुक्रवार को बदमाशों के मकान का अवैध हिस्सा ढहा दिया। इसके बाद देर रात पुलिस को मुखबीर से इन बदमाशों की लोकेशन प्राप्त हो गई। इसी के आधार दबिश देकर बदमाशों को हिरासत में लिया गया।
पिंगलेश्वर के समीप उंडासा रोड पर पहली मुठभेड़ रौनक और अनमोल से हुई। यह कार से भागने की फिराक में थे। कार को टक्कर मार कर रोका गया। इसके बाद बदमाश खेत में भागे। पुलिस पर फायरिंग की। पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग की। इसमें रौनक को तीन गोली लगी। सूरज को घायल रौनक को उपचार के लिए इंदौर रैफर कर दिया।
यहां उसकी हालत खतरे से बाहर बताई जा रही है। दूसरी कार्रवाई तिरूपति एवेन्यू में हुई। यहां से अनमोल, दीपक और आशीष को पकड़ा। इसी तरह की कार्रवाई पालखंदा में हुई। यहां पुलिस और रोशन के बीच भिड़त हुई। पुलिस की फायरिंग से रोशन के पैर में दो गोली लगी। यह जिला अस्पताल में है। महानंदा स्थित एक झोपड़ी से पुलिस ने अजय लोधी को पकड़ा है। पूरी कार्रवाई में बदमाशों ने पुलिस पर १२ फायर किए। पुलिस ने जबाव में २५ फायर ठोके।