संसद में चले लात घूंसे,इमरान खान की पाकिस्तान में ही जबरदस्त बेइज्जती

0
145
रोजाना की अंतरराष्ट्रीय बेइज्जती के बाद अब इमरान खान की संसद में जबरदस्त इज्जत उतारी गई।
संसद में चले लात-घूंसे, इमरान खान के खिलाफ लगे ‘गो नियाजी गो’ के नारे,विपक्षी सांसदों ने संसद की वेल में आकर प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) के खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी की. उनके खिलाफ विपक्षी नेताओं ने ‘गो नियाजी गो’ (Go Niazi Go) के नारे लगाए.
पाकिस्तानी संसद में चले लात-घूंसे, इमरान खान के खिलाफ लगे 'गो नियाजी गो' के नारे
पाकिस्तान (Pakistan) की संसद ‘मजलिस-ए-शूरा’ में गुरुवार यानी कल संयुक्त अधिवेशन चल रहा था. इसी दौरान राष्ट्रपति आरिफ अल्वी सदन को संबोधित कर रहे थे. उनके संबोधन के कुछ ही देर हुए थे कि पूरे संसद में जोर-जोर से नारेबाजी होने लगी. ये नारेबाजी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) के खिलाफ हो रही थी. विपक्षी पार्टियों की इस नारेबाजी को देखते ही सत्तारुढ़ पार्टी पीटीआई के सांसद अक्रामक हो गए . इसके बाद वो नारेबाजी कर रहे सांसदों के साथ धक्का-मुक्की करने लगे.  इस दौरान एक महिला सांसद के साथ भी धक्का-मुक्की की घटना हुई. इसके बाद ये हंगमा थमने की बजाए और भी ज्यादा बढ़ गया.
विपक्षी सांसदों ने संसद की वेल में आकर प्रधानमंत्री इमरान खान के खिलाफ जबरदस्त नारेबाजी की. उनके खिलाफ विपक्षी नेताओं ने ‘गो नियाजी गो’ (Go Niazi Go) के नारे लगाए. इस अधिवेशन में शाम के पांच बजे जैसे ही राष्ट्रपति का संबोधन शुरु हुआ था कि सदन में इमरान के खिलाफ हंगामा बरपने लगा. तहरीक-ए-इंसाफ और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के नेताओं ने एक-दूसरे पर जमकर लात-घूंसें बरसाए. संसद में जब ये सब हो रहा था, तो वहां पाकिस्तान के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, और सभी सेनाध्यक्ष मौजूद थे. ये अधिवेशन इमरान खान ने अपनी सरकार के एक साल पूरा होने पर बुलाया था. विपक्षी नेताओं ने इमरान को आर्थिक, रक्षा और विदेशी मामलों समेत सभी मोर्चों पर फेल बताया. पाकिस्तानी पत्रकार नायला इनायत ने इस हंगामें का वीडियो ट्वीट किया है.देखें वीडियो:

Naila Inayat नायला इनायत

@nailainayat

President Alvi giving details of internationalisation of Kashmir, well..

एम्बेडेड वीडियो

242 लोग इस बारे में बात कर रहे हैं
दरअसल उनका पूरा नाम इमरान अहमद खान नियाजी है. ‘गो नियाजी गो’ कहने के पीछे की एक बड़ी वजह ये है कि इमरान की तुलना जनरल नियाजी से की गई है. जेनरल नियाजी ही वो शख्स था, जिसकी अगुवाई में पाकिस्तान बांग्लादेश में भारत के साथ युद्ध लड़ रहा था, जिसमें पाकिस्तान को मुंह की खानी पड़ी और भारत ने दुनियाभर में अपनी ताकत का लोहा मनवाया था. इसी युद्ध के बाद पाकिस्तान के दो टुकड़े हुए थे और बांग्लादेश एक स्वतंत्र राष्ट्र बना था. 1971 में हुए इस युद्ध में जनरल नियाजी को करीब 92 हजार सैनिकों के साथ भारतीय फौज के सामने आत्मसमर्पण करना पड़ा था. इस घटना को पाकिस्तानी अपने इतिहास का काला अध्याय मानते हैं.