खुफिया इनपुट पर एक के बाद एक आतंकियों की साजिश नाकाम की जा रही है। पिछले दिनों दिल्ली और यूपी में आतंकी नेटवर्क के बाद अब हैदराबाद में अवैध रूप से चल रहे इंटरनेट टेलीफोन एक्सचेंज पकड़ा गया है। दरअसल, जम्मू और कश्मीर में एक सैन्य खुफिया यूनिट द्वारा मुहैया कराई गई सूचना के आधार पर तेलंगाना पुलिस को यह सफलता मिली।
बताया जा रहा है कि इस एक्सचेंज का इस्तेमाल कथित तौर पर पाकिस्तान स्थित आईएसआई के लोग भारतीय रक्षा अधिकारियों पर हमले की साजिश में कर रहे थे। सिंडिकेट का एक प्रमुख एजेंट गिरफ्तार कर लिया गया है और पुलिस ने बड़ी मात्रा में अवैध सिम-बॉक्स डिवाइसेज और सिम कार्ड्स बरामद किया है।
जांच जारी है और जल्द ही कुछ और गिरफ्तारियां की जा सकती हैं। तेलंगाना पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘इस महीने की शुरुआत में MI की एक यूनिट ने हैदराबाद में चल रही एक अवैध VoIP एक्सचेंज की जानकारी दी थी। पता चला कि इसके जरिए खुफिया जानकारी पाकिस्तान तक पहुंच रही थी और जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा अधिकारियों से बात कराई जा रही थी।’
इनपुट्स के आधार पर तेलंगाना पुलिस ने कई अवैध सिम कार्ड्स बरामद किए गए और मुख्य संदिग्ध को दबोच लिया गया। पुलिस ने शुक्रवार को नल्लाकुंता में छापेमारी की। 53 से ज्यादा सिम कार्ड्स के अलावा लैपटॉप्स और कंप्यूटर्स भी बरामद किए गए हैं।
पुलिस के मुताबिक इस तरह के अवैध एक्सचेंज दूसरे देशों से फोन करने वालों को उनकी पहचान छिपाकर किसी भारतीय नंबर पर कॉल की सुविधा प्रदान करते हैं। फोन रिसीव होने वाले को नंबर भारतीय का लगता है। VoIP टेक्नॉलजी का इस्तेमाल कर की गई कॉल ऐसे अवैध एक्सचेंजों में आती है और इसे सामान्य टेलिकॉम कॉल्स में तब्दील कर दिया जाता है।