Wednesday, October 13, 2021
Uncategorized

ये हो सकता है सबसे बड़ा इनकम टैक्स छापा, शरद पवार के भतीजे अजित पवार के रिश्तेदार, सहयोगियों पर

महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजीत पवार के संबंधित कंपनियों पर इनकम टैक्स विभाग ने छापा मारा है। खुद अजीत पवार ने इसकी जानकारी दी है कि आजउनसे जुड़े पारिवारिक सदस्यों और संबंधित कंपनियों पर आयकर विभाग ने छापा मारा है। अजीत पवार ने बताया का कि आईटी विभाग की कार्रवाई से कोई शिकायत नहीं है, लेकिन रिश्तेदारों की कंपनियों और संस्थानों के खिलाफ इस तरह की दबिश से बुरा लगता है। आयकर विभाग के अधिकारियों ने बताया कि कर चोरी के आरोप में अजीत पवार और उनके संबंधितों के यहां छापेमार कार्रवाई की गई है।

भाजपा के पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने बुधवार को दावा किया कि आयकर अधिकारियों द्वारा महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार के परिवार के सदस्यों से जुड़े परिसरों पर मारे गए छापे भारत में ऐसी ‘सबसे बड़ी’ छापेमारी है।

सोमैया ने एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए दावा किया, ”छापे पिछले 7 दिनों से चल रहे हैं। मेरे अनुसार, छापों की आंच 24 से अधिक प्रमोटरों, निदेशकों, मालिकों, फर्मों, परियोजनाओं तक पहुंच गई है। (आईटी अधिकारी) दीवारों, सर्वर रूम, बेसमेंट और पार्किंग स्थलों में छुपाकर रखी गई चीजें बरामद कर रहे हैं।’’

अधिकारियों ने कर चोरी के आरोपों के आधार पर अजित पवार की बहनों और अन्य रिश्तेदारों से जुड़े व्यवसायों की भी तलाशी ली थी।

सोमैया ने अजित पवार और सतारा जिले की एक चीनी मिल के बीच लिंक होने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा, ‘मैं अजित पवार से पूछना चाहता था कि उस चीनी मिल के मालिक और मुख्य शेयरधारक कौन हैं।”

सोमैया ने कहा कि अगर नेटफ्लिक्स (आईटी छापे पर) एक श्रृंखला बनाने का फैसला करता है, तो अजित पवार को कम से कम 200 करोड़ रुपये से 400 करोड़ रुपये की रॉयल्टी मिलेगी।

उन्होंने आरोप लगाया, ”यह ठाकरे-पवार सरकार नंबर एक घोटालेबाज सरकार है। भाजपा का लक्ष्य महाराष्ट्र को इस घोटालेबाज सरकार से मुक्त कराना है।”

अजित पवार ने पहले संवाददाताओं से कहा था कि वह इस मामले पर तभी बोलेंगे जब ‘सरकारी मेहमान’ तलाशी के बाद वापस चले जाएंगे

Leave a Reply