Thursday, June 23, 2022
Uncategorized

केजरीवाल का अस्पताल, ढूंढते रह जाओगे,इतना अत्याधुनिक की दिखता ही नही

नई दिल्ली। दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार का एक झूठा बेनकाब हुआ है। भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाकर दिल्ली की सत्ता में विराजमान होने वाली आप आदमी पार्टी (AAP) के नेता अब खुद करप्शन में लिप्त पाए जा रहे हैं। दिल्ली सरकार ने जनता से वादा कर अस्पताल खोलने की बात कही थी। हालांकि केजरीवाल सरकार ने अस्पताल तो खुलवाए, लेकिन सिर्फ कागजों पर। ये हम बल्कि खुद भाजपा सांसद मनोज तिवारी ने खुलासा किया। उन्होंने इसका वीडियो भी अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर किया है। जिसमें भाजपा सांसद मनोज तिवारी और दिल्ली भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता एक अस्पताल का दौरा करने पहुंचे हैं। लेकिन जब वो मौके पर पहुंंचते है तो वह देखकर दंग रह जाते हैं। वीडियो में आदेश गुप्ता, मनोज तिवारी को बताते है कि DDA ने दिल्ली सरकार को ये जगह अस्पताल बनाने के लिए दी थी। कोरोना काल में। उन्होंने कहा कि, 28 जून 2020 को 1256 करोड़ में 7 टेपरेर अस्पताल बनाने के लिए उनमें से किराड़ी में बनाने के लिए बोला था। ये बनकर तैयार हो गया था अब ये कहा कि नहीं मालूम।

वहीं मनोज तिवारी ने वीडियो संदेश जारी करते हुए कहा कि, 2 दिनों पहले हमने प्रेस कॉन्फ्रेंस द्वारा दिल्ली की केजरीवाल सरकार द्वारा 1256 करोड़ रुपये का बड़ा घोटाला हुआ है। जो 7 अस्पतालों को बनाना था उसमें बहुत सारी अनियमिता है। और इसकी जांच होनी चाहिए। हम इन जगहों की ग्राउंड में जाकर जांच पड़ताल करेंगे। इसी के तहत आज हम लोग किराड़ी के 458 बेड वाले हॉस्पिटल को देखने गये। लेकिन जो सबसे बड़ी वहां से सच्चाई निकलकर सामने आई है। वो सबको दहलाने वाली है। जहां 458 बेड वाले हॉस्पिटल को 2020 में ही बन जाने का PWD की वेबसाइट पर जानकारी दी गई है। उस जगह पर न तो  2020 में कोई स्थाई अस्पताल बना है, और न कोई 2021 के अस्थाई अस्पताल बने है।

आगे मनीष सिसोदिया पर निशाना साधते कहा कि, हम अस्पताल बनाने में कोई बाधा डालते हैं। हम तो अस्पताल बनाने में 450 करोड़ रुपये की जमीन महज 49 रुपये में दी है। ग्राउंड पर लोग कहते है कि 20 सालों में यहां पर कोई अस्पताल बना है।

Leave a Reply