【LIVE VIDEO】जनता खुश,उत्तरप्रदेश पुलिस ने नही बनने दिया एक और शाहीन बाग,जब्त हुई फ्री की बिरयानी, फ्री के कम्बल

167
दिल्ली में आमजन को परेशान कर रही शाहीनबाग कि महिलाओं की तर्ज पर लखनऊ में भी जुमे की नमाज़ के बाद करने की कोशिश की गई,अपने बच्चों नवजात शिशुओं और कई गर्भवती महिलाओं को शामिल किया गया था।जनता परेशान हो इससे पहले ही पुलिस ने फ्री कम्बल बांटने वाले धर लिए,फ्री बिरयानी जब्त कर ली,चाय नाश्ते के मुफ्त व्यवस्था बन्द करवा दी।धरना खत्म।
उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज पर नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के विरोध में महिलाओं ने प्रदर्शन शुरू कर दिया था। महिलाओं ने शुक्रवार को ही प्रदर्शन शुरू किया था और अभी तक उनका प्रदर्शन जारी है। मुस्लिम महिलाएं सीएए और एनआरसी के विरोध को लेकर घंटाघर पर महिलाएं जुटी हुई थी। इन महिलाओं के हाथ में सीएए औरएनआरसी के विरोध की तख्तियां भी थी।
ये महिलाएं जुमे की नमाज बाद शुक्रवार शाम चार बजे से घंटाघर पर जुटी थी, इनके साथ बच्चे भी थी। वहीं पुलिस ने देर शाम महिलाओं को समझाने की कोशिश की, लेकिन जब वे नहीं मानी तो घंटाघर की स्ट्रीट लाइट बंद कर दी गई। इसके बाद भी महिलाएं वहां डंटी रहीं।
महिलाओं को समझाने में जुटी है पुलिस
घंटाघर पर धरने की खबर मिलते ही काफी संख्या में पुलिस मौके पर पहुंची और धरने पर बैठी महिलाओं को समझाने का प्रयास किया। लेकिन, महिलाओं ने पुलिस को जिलाधिकारी संबोधित ज्ञापन सौंप धरना समाप्त करने से इंकार कर दिया।था
सीएए और एनआरसी लागू न करने की अपील
ज्ञापन में महिलाओं ने डीएम से धरना देने में सहयोग कर उनकी आवाज को न दबाने की अपील की थी। धरने में शामिल महिलाओं ने केंद्र सरकार से एनआरसी व सीएए लागू न करने की अपील की। कहा कि, सीएए में मुसलमानों को शामिल न कर सरकार हिंदू-मुस्लिम एकता को तोड़ना चाहती है।
लखनऊ के घंटाघर में महिलाओं प्रदर्शनकारियों से कंबल जब्त करने के मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस ने सफाई दी है. यूपी पुलिस ने ट्वीट करके कहा कि कुछ संगठनों के लोग पार्क में कंबल बांट कर रहे थे.
घंटाघर में महिला प्रदर्शनकारियों से कंबल छीनने के मामले में पुलिस ने दी सफाईपुलिस की मनाही के बाद भी लोगों का प्रदर्शन, विधिक तरीके से कंबल किए जब्त
लखनऊ के घंटाघर में महिलाओं प्रदर्शनकारियों से कंबल जब्त करने के मामले में उत्तर प्रदेश पुलिस ने सफाई दी है. यूपी पुलिस ने ट्वीट करके कहा, ‘घंटाघर में प्रदर्शन के दौरान कुछ लोग वहां पर रस्सी और डंडे से घेरा बनाकर शीट लगा रहे थे, जिसे लगाने से मना किया गया. कुछ संगठनों के लोग पार्क में कंबल बांट कर रहे थे. आस-पास के लोग कंबल लेने आ रहे थे, जो धरने में शामिल नहीं थे. पुलिस ने कंबल और उन संगठन के लोगों को हटाया और कंबलों को विधिक तरीके से कब्जे में लिया.’
दरअसल लखनऊ के घंटाघर में आज भी नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ मुस्लिम महिलाओं का प्रदर्शन जारी है. घंटा घर पर चल रहे प्रदर्शन में पुलिसिया कार्रवाई के बाद अफरा तफरी का माहौल मच गया था. रविवार सुबह यह प्रदर्शनकारियों ने दावा किया था कि पुलिस ने प्रदर्शनकारी महिलाओं के पास से खाने-पीने के सामान सहित कंबल को भी जब्त कर लिया है.
घंटाघर में पुलिस बल तैनात
घंटाघर में भारी संख्या में पुलिस बल तैनात है. इससे पहले शनिवार रात घंटाघर में भी भारी संख्या में लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया . महिलाओं के हाथ में सीएए और एनआरसी के विरोध की तख्तियां थीं. प्रदर्शन में महिलाओं के अलावा छोटे छोटे बच्चे और बच्चियां भी शामिल थीं.
इस दौरान लखनऊ पुलिस ने प्रदर्शनकारियों से हटने की अपील की , जब प्रदर्शनकारी नहीं माने तो पुलिस वाले अचानक एक्शन में आ गए और वहां आंदोलन से जुड़े सामान हटाए जाने लगे, जिसका विरोध हुआ, लेकिन पुलिस नहीं रूकी. प्रदर्शनकारी महिलाओं का आरोप है कि पुलिस ने उनके सामान जब्त कर लिए और टेंट-खाने का सामान नहीं पहुंचने दिया. महिलाओं का कहना है कि पुलिस आंदोलन को रोकने की कोशिश कर रही है.