पुलिस ने उल्टा टांग कर बेल्ट और सरिए से पीटा,मुंह मे पेशाब भर दिया

1095

अलीराजपुर  मध्य प्रदेश का एक जिला है। यह मध्य प्रदेश के पश्चिमी भाग में पड़ता है। यह कुछ सालों पहले ही झाबुआ जिले से कुछ क्षेत्रों को विलग करके एक अलग जिला बनाया गया था। इसके नाम को परिवर्तित करके ‘आलीराजपुर’ करने की माँग भी कुछ समूहों द्वारा की गयी है।

नशे की हालत में पुलिसकर्मियों ने पांच युवकों को उल्टा करके पीटा, पेशाब भी पिलाई,एसपी ने कार्रवाई करते हुए थाना प्रभारी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।

अलीराजपुर. मध्यप्रदेश की पुलिस का अमानवीय चेहरा सामने आया है। मध्यप्रदेश पुलिस का ये चेहरा मध्यप्रदेश के अलीराजपुर में सामने आया है। यहां पुलिसकर्मियों ने आरोपियों को पेशाब पिलाया है। इस मामले में राजनीति भी शुरू हो गई है। कांग्रेस नेताओं ने परिजनों के साथ मिलकर एसपी को ज्ञापन सौंपा है। पुलिसकर्मियों ने पांच युवकों की सरिया, बेल्ट और लाठी से पिटाई की है।

मानवीयता की हदें पार
जिले के सबसे बड़े कस्बाई थाना नानपुर में शुक्रवार-शनिवार की दरमियानी रात में पुलिस ने मानवीयता की सारी हदें पार कर दी। पुलिस पर आरोप है कि उसने थाना प्रभारी से हाथापाई करने के आरोप में 5 युवकों को हिरासत में लिया। इन पर प्राथमिकी दर्ज की गई थी। देर रात थाना प्रभारी ने स्टॉफ के अन्य पुलिसकर्मियों ने शराब के नशे में इन सभी आरोपियों को उल्टा लटकाकर बेरहमी से पीटा।
अस्पताल में भर्ती
मारपीट में घायल युवकों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। युवकों का आरोप है कि उन्हें रात में पुलिस ने जबरन पेशाब भी पिलाई।

एक नाबालिग भी शामिल
पुलिस ने जिन 5 लोगों की पिटाई की है उनमें एक नाबालिग भी शामिल है। मामला गंभीर होने पर कांग्रेन नेताओं ने गृहमंत्री बाला बच्चन और जिले के प्रभारी मंत्री सुरेन्द्र सिंह बघेल को इसकी जानकारी दी। गृहमंत्री बाला बच्चन ने मामले में एसपी से बात करते हुए आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। मामले में कार्रवाई करते हुए एसपी ने थाना प्रभारी समेत आरक्षक राहुल, विजय और मनोहर को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। घायलों से मिलने कई कांग्रेस नेता भी पहुंचे। वहीं, पाड़ित के परिजनों ने एसपी को ज्ञापन सौंपा है।

राजनीति गरमाई
जानकारी मिलने पर जिला कांग्रेस अध्यक्ष महेश पटेल थाने पहुंचे। कुछ ही देर में सैकड़ों ग्रामीणों के थाना घेर लिया। एसपी विपुल श्रीवास्तव को नानपुर आना पड़ा। एसपी ने एसडीओपी को जांच अधिकारी नियुक्त कर जांच रिपोर्ट के बाद कार्रवाई का भरोसा दिलाया है।