लड़कीं बरामद आलोक वर्मा के घर से,पर आलोक वर्मा कौन,सबको सांप सूंघ गया है ,3 महीने से कैद

0
1073
झारखंड की सुनीता तीन महीने से घरेलू काम कर रही थी, न पैसे मिलते थे, न घर आने देते थेप्लेसमेंट एजेंसी संचालक रख लेते थे सुनीता की तनख्वाह
 दिल्ली में आलोक वर्मा के घर में बंधक बनी मांडर की सुनीता टोप्पो (20) को गुरुवार शाम दिल्ली पुलिस ने छुड़ा लिया। वह पिछले तीन महीने से वर्मा के वसंत विहार स्थित फ्लैट (संख्या 2/13) में घरेलू नौकरानी के रूप में काम कर रही थी। इसके एवज में उसे न तनख्वाह दी जा रही थी और न ही घर जाने दिया जा रहा था।
वर्मा सीबीआई निदेशक हैं या कोई और…इस पर सभी खामोश हैं। दिल्ली पुलिस ने इसका खंडन किया है। महिला आयोग की मदद से सुनीता का रेस्क्यू किया गया, लेकिन वर्मा के सीबीआई निदेशक होने की चर्चा चलते ही आयोग के सभी सदस्यों के फोन बंद हो गए। महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालिवाल दिल्ली में ही थीं। लेकिन कहा गया कि वे दिल्ली से बाहर हैं।
दो एजेंसी संचालकों को बेची गई थी युवती : सुनीता मांडर के नारो सरना टोली की रहने वाली है। तीन महीने पहले टांगरबसली की निशा देवी ने उसे दिल्ली के संत नगर में प्लेसमेंट एजेंसी चलाने वाले यमुना और अशोक को बेच दिया था। इन दोनों ने सुनीता को आलोक वर्मा के फ्लैट में घरेलू काम के लिए रखवाया। काम के एवज में जो पैसे मिलते, वह यमुना और अशोक रख लेते थे।
पुलिस ने दिल्ली के शेल्टर होम में रखा सुनीता को : बाल अधिकार कार्यकर्ता बैद्यनाथ कुमार ने रांची के ग्रामीण एसपी अजीत पीटर डुंगडुंग को आवेदन देकर कहा था कि सुनीता दिल्ली में आलोक वर्मा के घर पर कैद है। उससे घरेलू काम करवाया जा रहा है। पैसे भी नहीं दिए जा रहे हैं।  उसने सुनीता को मुक्त कराने का आग्रह किया था। साथ ही दिल्ली महिला आयोग को भी सूचना दी थी। गुरुवार शाम वसंत विहार पुलिस और शक्ति वाहिनी दिल्ली की टीम वर्मा के फ्लैट पर पहुंची और सुनीता को छुड़ा लिया। उसे दिल्ली में एक शेल्टर होम में रखा गया है।