Friday, May 8, 2020
Uncategorized

खुल गया 5 लाशों का रहस्य,पूरे देश को हिला दिया

एटा के एक ही परिवार के पाँच लोगों की मौत के मामले में पुलिस ने सनसनी खेज खुलासा किया है। घर की बहू ने जहर देकर पहले सबको मारा और फिर खुद जहर खाकर आत्महत्या कर ली। एसएसपी ने बताया कि घर में कलह चल रही थी। बहू रुड़की शिफ्ट होना चाहती थी। इसी कारण इस वारदात को अंजाम दिया गया।
जानिए पूरा मामला :
एटा में एक ही परिवार के पांच लोगों का शव शनिवार सुबह मिला। घर से हारपिक और सल्फास की डिब्बी भी मिली थी। कोतवाली नगर के मोहल्ला शृंगार नगर में रिटायर्ड स्वास्थ्यकर्मी राजेश्वर प्रसाद पचौरी (75) पुत्र रामप्रसाद पचौरी रहते थे। उनकी पुत्रवधू दिव्या (35) पत्नी दिवाकर, नाती आरुष (8) आरव (एक) रहते थे। कुछ दिन पूर्व बेटे की साली बुलबुल निवासी सोनई (23) निवासी सोनई, हाथरस भी आ गई थी। शनिवार  सुबह दूध देने के लिए महिला आई थी। महिला ने गेट खटखटाया तो कोई आवाज नहीं आई। उसने अंदर झांककर देखा तो गेट के पास ही चारपाई पर दिव्या की लाश पड़ी दिखाई दी। यह देख वह चीख निकल गई। इस मामले की जानकारी आसपास के लोगों को दी गई। पूरा मोहल्ला जमा हो गया। अंदर से ताला बंद होने के कारण कुछ पता नहीं चल सका।
सूचना मिलने पर पुलिस पहुंच गई। तब तक परिवार के अन्य लोग भी पहुंच गए। पुलिस ने गैस कटर से गेट काटकर अंदर जाकर देखा तो सभी मृत पड़े थे। यह हाल देख कोहराम मच गया। मौके पर एसएसपी सुनील कुमार सिंह, डीएम सुखलाल भारती, एडीएम प्रशासन विवेक मिश्रा, एएसपी संजय कुमार, सदर विधायक विपिन वर्मा डेविड आदि लोग पहुंच गए। पुलिस ने डॉग स्क्वाउड आदि से जांच कराई है।
जहरीला पदार्थ खिलाकर पत्नी ने सभी को मारा
आपको बता दें कि राजेश्वर प्रसाद पचौरी के मकान में पुत्रबधू दिव्या पचौरी पत्नी दिवाकर पचौरी, नाती आरूष (10) और आरव उर्फ छोटू (10 माह) दिव्या की बहन बुलबुल (26) के शव शनिवार सुबह बरामद हुए थे. शनिवार की सुबह पांच शव मकान से बरामद किए गए थे. पांचों शवों का पोस्टमार्टम देर रात तक हो पाया था. इसमें खुलासा हुआ कि चार की सामान्य मौत नहीं बल्कि हत्या की गई थी. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में चारों को पहले खाना खिलाया और उसी में नशीला पदार्थ खिलाया गया. ये सब दिव्या ने किया था. उसी ने सभी को जहर खिलाने के बाद उनका गला घोंट दिया और सबके मर जाने के बाद खुद भी जहर खा लिया.
एसएसपी सुनील कुमार सिंह ने बताया कि  श्रृंगार नगर में मिले शवों का देररात तक पोस्टमार्टम हो सका था. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि राजेश्वर प्रसाद पचौरी, बुलबुल, आरूष और आरव को खाने में जहर देकर हत्या की गई. जब तक ये लोग मर नहीं गए तब तक दिव्या ने खाना नहीं खाया और सबके मर जाने के बाद बहू दिव्या ने जहर खाकर जान दे दी
चार शवों को अंतिम संस्कार पैतृक गांव में किया गया है और बुलबुल के परिजन शव मथुरा ले गए. परिवार की बहू दिव्या ने सभी के गले दबाए और मासूम छोटू के मुंह को दबाकर जान ले ली. दिव्या जब चारों की मौत से संतुष्ट हुई तब उसने खुद विषाक्त पदार्थ खाकर जान दे दी. जब लगा कि जान बच सकती है तो उसने ब्लेड से अपनी कलाई की नस भी काट ली.

Leave a Reply