नाबालिग का गैंगरेप, सुस्त प्रशासन,हाइवे पर नंगे दौड़ती रही लड़की

0
292
राजस्थान।में महिला अपराध उफान पर है।राजस्थान के जयपुर से 250 किलोमीटर दूर भिलवाड़ा जिले में एक बार फिर इंसानियत को शर्मसार करने वाली घटना सामने आई है। यहाँ 15 साली की एक बच्ची का 3 लोगों ने शराब के नशे में अपहरण करके गैंगरेप किया है। घटना सोमवार शाम की है, जब बच्ची अपने 2 दोस्तों के साथ मंदिर जा रही थी।

जानकारी के मुताबिक लड़की का अपहरण होते ही उसका एक दोस्त भागकर पास के बाजार गया और वहाँ एक दुकानदार को सारा वाकया बताकर उनसे मदद माँगी। जैसे ही मदद के लिहाज से वो दुकानदार वहाँ पहुँचा तो तीनों आरोपित लड़की को छोड़कर भाग गए। लेकिन बच्ची इतनी डर चुकी थी कि वो मदद को आए दुकानदार से भी दूर भागने लगी। बिना कपड़ों के पीड़ित बच्ची करीब आधा किलोमीटर तक भागती रही। किसी तरह समझाने-बुझाने के बाद जब वो रुकी, तो उस दुकानदार ने उसे कपड़ों से ढका और उसे घर लेकर गया।

पुलिस के मुताबिक इस मामले में तीनों आरोपितों की गिरफ्तारी हो चुकी है। आरोपितों की पहचान राजू कहर, कैलाश कहर और नारायण गुर्जर के रूप में हुई है। इनमें राजू और कैलाश की उम्र 20 के आसपास की बताई जा रही हैं, जबकि नारायण 40 वर्ष का है।

Rajasthan teen, raped by 3, ran half-a-km to escape man trying to help her | jaipur | Hindustan…

The girl was rescued after one of her friends ran back to the market some distance away and got some help. The three suspects escaped, leaving the terrified teenager behind.

hindustantimes.com

12:06 AM – Sep 12, 2019

Twitter Ads info and privacy

See KULBIR KAUR’s other Tweets

जिस युवक ने बच्ची को बचाया उन्होंने बताया, “मैं सोमवार की शाम अपनी दुकान पर बैठा था, जब एक डरा-सहमा लड़का मेरे पास आया। उसने बताया कि वो अपनी दो दोस्तों के साथ मंदिर जा रहा था कि तभी टहनल रोड पर 3 लोगों ने उसे रोक लिया। उन्होंने लड़के से उसकी बाइक छीनी और उसकी एक दोस्त को सुनसान जगह पर उसका बलात्कार करने ले गए।”

मीडिया से बातचीत में दुकानदार ने बताया, “जब मैं अपनी बाइक से उस जगह पर पहुँचा तो तीनों आरोपित लड़की को मार रहे थे। लेकिन मुझे देखते ही वो फरार हो गए। लड़की बहुत डरी हुई थी। वो मुझे भी देखकर वहाँ से भागने लगी, करीब आधा किलोमीटर वो बिन कपड़े भागी। मैं समझाता रहा कि मैं उसकी मदद के लिए आया हूँ, लेकिन उसने विश्वास नहीं किया। कुछ देर बाद जब उसने मुझ पर यकीन किया, तो वो रुकी, मैं उसे कपड़े दिए और वापस शहर लेकर आया। मैंने उसे अस्पताल ले जाने की बात कही, लेकिन उसने कहा कि उसे घर जाना है, क्योंकि उसके पिता की तबीयत खराब है।”

लेकिन, जब लड़की के घरवालों ने इस घटना के बारे में सुना,उन्होंने तत्काल पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई, जिसके बाद तीनों की गिरफ्तारी हुई। डीएसपी भरत सिंह, जो इस की जाँच कर रहे हैं, उन्होंने बताया कि तीनों आरोपित शाहपुर के रहने वाले हैं। इसके अलावा उन्होंने ये भी बताया कि उन्हें अपनी जाँच में घटनास्थल से चूड़ियों के टुकड़े, शराब की बोटल और खून के निशाने मिले हैं। लड़की के कपड़ों को भी बरामद कर लिया गया और लड़की का मेडिकल चेकअप करवाया गया है, जिसमें लड़की के शरीर पर हर जगह खरोंच के निशान हैं।