Saturday, May 23, 2020
Uncategorized

शिवराज सिंह को हटाओ यदि बिजली बिल कम करना है तो,मध्यप्रदेश विद्युत विभाग का कहना

किसी भी प्रदेश में शायद विद्युत विभाग ने ऐसा जवाब नही दिया होगा।
MP : ज़्यादा बिल की शिकायत पर बिजली विभाग का जवाब- बिल में छूट पाना है तो BJP को हटाओ
मध्य प्रदेश विद्युत विभाग की वेबसाइट पर दर्ज ऑनलाइन शिकायत के जवाब में लिखे आ रहे एक मैसेज ने आम लोगों को सकते में डाल दिया है. MP में उपचुनाव (Assembly Bypoll) से पहले सियासत गर्माने के आसार.
आगर मालवा.
यदि आपको बिजली बिल (Electricity bill) पर छूट पाना है, तो बीजेपी (BJP) को हटाना है और कांग्रेस (Congress) को लाना है. ऐसा हम नहीं कह रहे, बल्कि मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में विद्युत विभाग की अधिकृत वेबसाइट (website) कह रही है. जी हां, आगर मालवा में ज्यादा बिल आने की शिकायत ऑनलाइन दर्ज करने पर उपभोक्ता को ऐसा ही मैसेज आया. आने वाले समय में आगर विधानसभा सीट पर उप चुनाव हैं. ऐसे में सरकारी विभाग से इस तरह के मैसेज ने अफसरों को फौरन हरकत में ला दिया है. मामले की जांच की जा रही है.
मध्य प्रदेश विद्युत विभाग की वेबसाइट पर दर्ज शिकायत के निपटारे में लिखे आ रहे एक मैसेज ने आम लोगों को सकते में डाल दिया है. मध्य प्रदेश विद्युत विभाग की साइट पर बिजली संबंधी किसी भी तरह की ऑनलाइन शिकायत करने की व्यवस्था है. विभाग ऐसी शिकायत पर फौरन रिप्लाई देता है. या फिर शिकायत के समय दी गई आईडी से लॉगिन करके ऑनलाइन देखा जा सकता है कि आपकी शिकायत पर क्या कार्रवाई हुई.

शिकायत में मिला ये जवाब
आगर मालवा में रहने वाले हरीश जाधव के घर का बिजली का बिल 30,000 रुपए से ज़्यादा का आया था. उन्होंने इसकी ऑनलाइन शिकायत की. शिकायतकर्ता ने जब अपनी शिकायत के स्टेटस को ऑनलाइन देखा तो उसमें संदेश लिखा था, “अगर बिल में छूट पाना है तो बीजेपी को हटाना है और कांग्रेस को लाना है, 100 में 100 रुपए का आना है”. इस तरह का मैसेज देख कर हरीश हैरान हो गए और उन्होंने कलेक्टर कार्यालय पहुंचकर इसकी शिकायत दर्ज कराई.
ऊपर तक मची खलबली
इस पूरे मामले में मध्य प्रदेश विद्युत विभाग आगर के जूनियर इंजीनियर से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मामला संज्ञान में आया है. यह हमारे विभाग की ही साइट है. मगर यह इस तरह का जो संदेश आ रहा है, वो किसी की कारस्तानी हो सकती है. हमारी आईडी पासवर्ड कई लोगों के पास होते हैं. वहां से ही कुछ हुआ होगा. हम भी इसकी शिकायत वरिष्ठ कार्यालय को दे चुके हैं.

Leave a Reply