देश को दहलाने की साज़िश 5 आतंकवादी पकड़े,एजाज अहमद शेख, उमर हमीद शेख, इम्तियाज अहमद, साहिल फारूख और नसीर अहमद मीर

189
हालांकि आतंक का कोई धर्म नही होता लेकिन पड़ोसी मज़हब आधारित मुल्क ने अपनी नीचता और गन्दगी से इसको झुठलाने में कोई कसर नही छोड़ी है।
गणतंत्र दिवस से पहले जम्मू-कश्मीर पुलिस को एक बड़ी कामयाबी हाथ लगी है। जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बृहस्पतिवार (जनवरी 16, 2020) की शाम श्रीनगर से जैश-ए-मोहम्मद के पाँच आतंकियों को गिरफ्तार किया। पुलिस के मुताबिक यह सभी आतंकी 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के दिन कश्मीर घाटी में आतंकी हमला करने की साजिश रच रहे थे।
पुलिस ने आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद द्वारा गणतंत्र दिवस पर एक बड़े आत्मघाती हमले की रची जा रही साजिश को नाकाम कर दिया है। पुलिस ने जैश के पाँच सदस्यीय मॉड्यूल को नेस्तनाबूद करते हुए विस्फोटकों से लैस एक जैकेट और रिमोट ट्रिगल वाला बायोफेंग वॉकी-टॉकी भी बरामद किया है।
पुलिस को सूत्रों ने श्रीनगर में आतंकियों के छिपे होने की सूचना दी थी। जिसके बाद पुलिस फोर्स ने घेराबंदी करके आतंकियों को गिरफ्तार कर लिया। सभी आतंकी हजरतबल इलाके के रहने वाले हैं। आतंकियों के पास से पुलिस ने भारी मात्रा में हथियार और विस्फोटक बरामद किया है।
आतंकियों की पहचान एजाज अहमद शेख, उमर हमीद शेख, इम्तियाज अहमद, साहिल फारूख और नसीर अहमद मीर के रूप में हुई है। एजाज पेशे से वाहन चालक है जबकि उमर ठेला लगाता है। इमरान की खेल सामग्री की दुकान है, नसीर का अपना कारोबार है और साहिल एक प्राईवेट फर्म में नौकरी करता है।
पुलिस ने हथियार और विस्फोटक सामाग्री जब्त करके कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस ने बताया कि बीते साल नवंबर में कश्मीर यूनिवर्सिटी के बाहर हुए ग्रेनेड हमले में भी यही आतंकी शामिल थे। अब वे 26 जनवरी को घाटी में एक बड़े आतंकी हमले को अंजाम देने की फिराक में थे।
सुरक्षाबलों ने घाटी में आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई तेज कर दी है। अभी बीते बुधवार को भी सुरक्षाबलों ने डोडा में एनकाउंटर के दौरान हिज्बुल मुजाहिदीन के एक आतंकी को मार गिराया था। आतंकी की पहचान हिज्बुल मुजाहिदीन कमांडर हारून वानी के रूप में हुई थी। जेके पुलिस ने बताया कि पिछले महीने किश्तवाड़ में हुए राजनीतिक पार्टियों के कार्यकर्ताओं की हत्या सहित सुरक्षाबलों से हथियार छीनने जैसी वारदातों में भी आतंकी हारून शामिल था। सुरक्षाबल गणतंत्र दिवस की सुरक्षा को लेकर चौकन्नी है।