Thursday, June 23, 2022
Uncategorized

उद्धव ठाकरे के पास कुल 12 विधायक बचे,17 सांसद भी शिंदे के साथ,शिवसैनिकों को बर्दाश्त नही हुआ इस्लामिकरन ,हिंदुत्व रीढ़ की हड्डी

शिवसेना अब बड़ी टूट की ओर जाता दिख रहा है. विधायकों के बाद अब सांसद भी बगावत के मूड में आ गए हैं. कहा जा रहा है कि एकनाथ शिंदे के संपर्क में पार्टी के 17 सांसद हैं. शिंदे के समर्थन में ठाणे सांसद राजन विचारे और रामटेक सांसद कृपाल तुमान समेत 17 सांसद शामिल बताए जा रहे हैं.

महाराष्ट्र में उद्धव सरकार की मुश्किलें थमती नहीं दिख रही है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अपील के बावजूद शिवसेना विधायकों के बागी होने सिलसिला अब भी जारी है। बुधवार रात को चार और विधायक गुवाहाटी में शिंदे गुट से जा मिले हैं। वहीं अटकलें यह भी लगाई जा रही हैं कि दो और विधायक आज गुवाहाटी जा सकते हैं।
बुधवार रात को लगभग 8 बजे चार विधायक गुवाहाटी में मौजूद रेडिसन ब्लू होटल पहुंचे। दरअसल, इसी होटल में एकनाथ शिंदे अन्य बागी विधायकों के साथ ठहरे हुए हैं। जानकारी के अनुसार, गुवाहाटी पहुंचे शिवसेना के विधायकों में गुलाबराव पाटील और योगेश कदम भी शामिल हैं। बाकी दो विधायक (मंजुला गावित और चंद्रकांत पाटिल) निर्दलीय हैं।
इससे पहले शिंदे गुट ने 34 विधायकों के दस्तखत वाली चिट्ठी गवर्नर भगत सिंह कोश्यारी को भेजा है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पत्र में कहा गया है कि एकनाथ शिंदे ही शिवसेना विधायक दल के नेता हैं। भरत गोगावले को नया चीफ व्हिप चुन लिया गया है। जबकि शिव सेना ने मंगलवार को शिंदे को विधायक दल के नेता पद से हटा दिया था।

पिता के अंदाज में दिखने की कोशिश की उद्धव ठाकरे ने: बता दें कि महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच उद्धव ठाकरे अपने पिता बाल ठाकरे के 30 साल पहले वाले अंदाज में दिखे। दरअसल जुलाई, 1992 में भी शिवसेना में विरोध के सुर उठे थे। उस दौरान बाला साहेब ठाकरे और उनकी कार्यशैली पर शिवसेना के ही एक पुराने साथी माधव देशपांडे ने सवाल उठा दिए थे। देशपांडे ने बाल ठाकरे के भतीजे राज ठाकरे और बेटे उद्धव ठाकरे पर आरोप लगाया था कि दोनों ही पार्टी के मामलों में काफी दखलअंदाजी कर रहे हैं।

Maharashtra Political Crisis Live: उद्धव-पवार की मीटिंग के बाद बदले संजय राउत के तेवर, बोले- ठाकरे रहेंगे सीएम, जरूरत पड़ी तो फ्लोर पर दिखाएंगे ताकत

विरोध के सुर उठते देख बाल ठाकरे ने सामना में अपने तेवर में एक लेख में कहा, “अगर एक भी शिवसैनिक मेरे और मेरे परिवार के खिलाफ खड़ा हो और ये कह दे कि आपकी वजह से हमने शिवसेना छोड़ी या आपने हमें चोट पहुंचाई, तो मैं एक पल के लिए भी शिवसेना प्रमुख के रूप में बने रहने के लिए तैयार नहीं हूं।”

Leave a Reply