आपका मोबाइल फोन क्या आपको नपुंसक बना रहा है,सिर्फ एक नम्बर से खुद चैक करें

0
1037
भारतीय मोबाइल बाजार में चीन की दो स्मार्टफोन निर्माता कंपनियों ने अपनी खासी पहचान बना ली है। एक ओर जहां बजट स्मार्टफोन में शाओमी की धाक है, वहीं दूसरी ओर प्रीमियम स्मार्टफोन बाजार में वनप्लस ने ऐप्पल को पीछे छोड़ दिया है। वहीं एक ऐसी रिपोर्ट आई है जिसने इन कंपनियों के मोबाइल इस्तेमाल करने वालों की नींद उड़ा दी है।
डाटाबेस कंपनी ने statista ने एक रिपोर्ट जारी की है जिसमें सबसे अधिक रेडिशन वाले स्मार्टफोन के नाम हैं। इस लिस्ट में शाओमी का भारत में काफी लोकप्रिय स्मार्टफोन एमआई ए1 पहले पायदान पर है, वहीं वनप्लस दूसरे नंबर पर है।

रिपोर्ट की मानें तो Xiaomi Mi A1 का रेडिएशन 1.75 वॉट प्रति किलोग्राम है। वहीं वनप्लस 5टी का रेडिएशन 1.68, Mi Max 3 का 1.58 और OnePlus 6T का रेडिएशन 1.55 है। इस लिस्ट में 16 लोकप्रिय स्मार्टफोन के नाम हैं जिनका रेडिशन मानक से अधिक है।
इस लिस्ट में ऐप्पल और गूगल का भी नाम है। आईफोन का रेडिशन सार वैल्यू 1.38 है और गूगल पिक्सल का 1.33 वॉट है। वहीं सैमसंग का गैलेक्सी नोट 8 का सार वैल्यू सबसे कम 0.17 है। यदि आप भी जानना चाहते हैं कि आपके फोन का सार वैल्यू कितना है तो
आप *#07# डायल करें। यदि आपके फोन का सार वैल्यू 1.6 वॉट से अधिक है तो तुरंत अपना फोन बदल दें।
अगली स्लाइड में जानें रेडिशन से होने वाली बीमारियों के बारे में।
जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी के एक शोध को मानें तो मोबाइल फोन और टॉवर्स से निकलने वाले रेडिशन के कारण नपुंसकता हो सकती है। इसके अलावा अधिक रेडिशन से मानसिक बीमारी भी होती है और लोगों में चिड़चिड़ापन होता है। मोबाइल रेडिशन से ब्रेन ट्यूमर जैसी बीमारियां भी होती है, इसलिए घंटों फोन पर बातें नहीं करनी चाहिए।