सनसनीखेज मामला- क्या ट्वीट में छिपी है धमकी,यदि मिलने आते रहोगे तो मैं मजबूत रहूंगा,बिल्कुल माफिया स्टाइल की

0
1744
ज्यादातर लोगों ने मारियो प्यूज़ो की गॉडफादर तो पढ़ी है।उसमें सीधे धमकी नही दी जाती थी,प्रेम से समझाया जाता था।आज न जाने क्यों इसको पढ़ कर यह एहसास हो रहा है।
आईएनएक्स मीडिया से जुड़े मामले में तिहाड़ जेल संख्या सात में बंद पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम से मिलने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी व पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह पहुंचे। सुबह करीब पौने नौ बजे तिहाड़ के गेट संख्या तीन से दोनों तिहाड़ परिसर में दाखिल हुए। जेल संख्या सात की ड्यौढ़ी में पी चिदंबरम से इनकी मुलाकात करीब 25 मिनट तक चली। इस दौरान वहां कोई भी व्यक्ति मौजूद नहीं था। जेल प्रशासन के अनुसार चिदंबरम से मिलने सोनिया गांधी व डॉ मनमोहन सिंह पहुंच रहे हैं, इस बात की जानकारी रविवार रात जेल प्रशासन को मिल चुकी थी।
एसपीजी सुरक्षा को देखते हुए यह पहले ही तय हो गया था कि ये तिहाड़ के गेट संख्या तीन से दाखिल होकर जेल संख्या सात तक जाएंगे। सुबह जैसे ही सोनिया गांधी व डॉ मनमोहन सिंह के तिहाड़ आने की बात मीडियाकर्मियों को पता चली, वे गेट संख्या तीन के बाहर जमा हो गए। इससे पहले जेल रोड पर पुलिस की सरगर्मी बढ़ गई थी। सड़क पर यातायात पुलिस के कर्मी किसी भी गाड़ी को रुकने नहीं दे रहे थे। करीब नौ बजे काले रंग की कार में सोनिया गांधी व डॉ मनमोहन सिंह जेल परिसर में दाखिल हुए। करीब साढ़े नौ बजे दोनों गेट संख्या चार से जनकपुरी के रास्ते निकल गए।
पहले भी कई कांग्रेसी नेता मिले
सोनिया गांधी व डॉ मनमोहन सिंह से पहले भी कई कांग्रेसी नेता चिदंबरम से तिहाड़ में मिलने पहुंच चुके हैं। 18 सितंबर को गुलाम नबी आजाद व अहमद पटेल ने चिदंबरम से मुलाकात की थी। इससे पहले कांग्रेस का एक प्रतिनिधिमंडल छह सितंबर को चिदंबरम से मिलने के लिए आया था, लेकिन जेल अधिकारियों ने यह कहते हुए मुलाकात की मंजूरी देने से मना कर दिया था कि मुलाकात का तय समय बीत चुका है। इस प्रतिनिधिमंडल में पीसी चाको व मुकुल वासनिक सहित कई अन्य नेता शामिल थे।
क्या है ड्यौढ़ी
जेल परिसर में दाखिल होने के मुख्य दरवाजे को ड्योढ़ी कहा जाता है। जेल में प्रवेश करने का एकमात्र द्वार डयोढ़ी ही होता है। कैदी हो या अधिकारी, जेल में डयोढ़ी के रास्ते से ही प्रवेश करते हैं। यहां सुरक्षाकर्मियों की कड़ी तैनाती होती हैं। डयोढ़ी में एक नहीं बल्कि दो मुख्य द्वार होते हैं। एक द्वार से ड्योढ़ी में प्रवेश व निकास तो दूसरे द्वार से जेल के भीतरी हिस्से में प्रवेश किया जाता है। बीच के हिस्से में अधिकारियों के कक्ष, जांच कक्ष व प्रशासनिक अधिकारियों के लिए कमरे बने होते हैं।
सुधीर मुनगंटीवार ने साधा निशाना
महाराष्ट्र के वित्त मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के तिहाड़ जेल में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम से मुलाकात पर तंज कसा है। मुनगंटीवार ने कहा कि यह उनकी मजबूरी है। उन्हें यह डर है कि पी चिदंबरम कोई खुलासा न कर दें।