Friday, October 16, 2020
Uncategorized

अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को ज़हर देकर मारने की कोशिश

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को ज़हर भर लिफाफा भेजा गया जिसको सुरक्षा एजेंसियों ने पकड़ लिया।लिफाफे में घातक ज़हर राइसिन लगा हुआ था।उक्त लिफाफा कनाडा से भेजा गया था।जांच जारी है।

राइसिन जैसे जानलेवा जहर का मेडिकल साइंस के पास कोई इलाज नहीं है. लेकिन पूरी दुनिया में तीन लोग ऐसे हैं जिन पर राइसिन बिल्कुल असर नहीं करता है.

कुछ मिलीग्राम राइसिन एक आदमी को खत्म कर देता है. सांस, आहार या इंजेक्शन के जरिये शरीर में घुसते ही राइसिन, प्रोटीन के सिंथेंसिस बंद कर देता है. इसके बाद तंत्रिका तंत्र, किडनी, लीवर और अन्य अंग नाकाम होने लगते हैं. दुनिया के सबसे घातक जहरों में गिने जाने वाले राइसिन के संपर्क में आने के कुछ दिन बाद ही मौत हो जाती है. मेडिकल साइंस के पास राइसिन का कोई इलाज नहीं है. इससे भी बुरी बात यह है कि राइसिन आसानी से हासिल किया जा सकता है. इसे बीजों से निकाला जा सकता है.

राइसिन को जैविक हथियार के तौर पर वर्गीकृत किया गया है. हत्याओं और आंतकवादी हमलों में इसका इस्तेमाल हो चुका है. 1978 में लंदन में रहने वाले बुल्गारियाई लेखक जियोर्जी मार्कोव की हत्या राइसिन से ही की गई. बगल से गुजरते शक्स ने उन्हें छाते की नोंक से छुआ. नोक में राइसिन से भरा इंजेक्शन था.

Leave a Reply